मराठा आरक्षण आंदोलन,एक और युवा ने की खुदकुशी

मराठा आरक्षण आंदोलन,एक और युवा ने की खुदकुशी



औरंगाबाद। महाराष्ट्र में औरंगाबाद के चिलकलथाना क्षेत्र में 22 वर्षीय एक मराठी युवक ने अपने घर में फांसी लगाकर कथित तौर पर आत्महत्या कर ली। पुलिस ने बताया कि उमेश यांदेत के पास मृत्यु पूर्व लिखा गया पत्र बरामद किया गया है जिसमें उसने लिखा है कि

बीएससी उत्तीर्ण होने के बावजूद वह नौकरी पाने में असमर्थ था, इसलिए यह कदम उठा रहा है। इससे पहले, उमेश मराठा आरक्षण को लेकर निकाले गये विभिन्न मोर्चाओं में लिया था।

इसके साथ ही अब तक महाराष्ट्र में इस मुद्दे पर 10 से अधिक युवक कथित तौर पर आत्महत्या कर चुके हैं। गुरुवार को जैसे ही युवक के आत्महत्या करने की खबर आई, मराठा आंदोलनकर्ता सड़क पर उतर आए और चिल्कलथाना क्षेत्र के नजदीक औरंगाबाद-जलना मार्ग को जाम कर दिया जिससे तनाव उत्पन्न हो गया।

इसके बाद, पुलिस दल मौके पर पहुंचा और स्थिति नियंत्रित की। कलेक्टर ने आंदोलनकर्ताओं के समक्ष एक पत्र पढ़ा और उन्हें आश्वस्त किया कि वह राज्य सरकार से मृतक के परिवार को 10 लाख रुपये सहायता राशि और नौकरी देने के लिए बात करेंगे।

इस बीच, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडनवीस ने गुरुवार को कहा कि उनकी सरकार कानून के अनुसार मराठों को आरक्षण उपलब्ध कराएगी। उन्होंने विभिन्न संगठनों के नेताओं के साथ बैठक भी की है।


Share it
Share it
Share it
Top