एक लाख की रिश्वत लेते सेल टैक्स इंस्पेक्टर रंगेहाथ गिरफ्तार

एक लाख की रिश्वत लेते सेल टैक्स इंस्पेक्टर रंगेहाथ गिरफ्तार


झज्जर । बहादुरगढ़ में विजिलेंस की टीम ने एक लाख रुपये की रिश्वत लेते हुए सेल टैक्स विभाग के इंस्पेक्टर और दो दलालों को रंगे हाथ गिरफ्तार किया है। आरोपियों के कब्जे से एक लाख रुपये की राशि बरामद की गई है। इंस्पेक्टर ने दलालों के जरिये दिल्ली के एक ट्रांसपोर्टर से उसकी सामान से भरी गाड़ी छोड़ने की एवज में साढ़े पांच लाख रुपये मांगे थे। जिस पर सौदा चार लाख रुपये में तय हुआ था। इतना ही नहीं ट्रांसपोर्टर इंस्पेक्टर को दो लाख रुपये पहले ही दे चुका था। जब सेल टैक्स विभाग के इंस्पेक्टर ने बाकी पैसे जल्दी देने के लिये ट्रांस्पोर्टर पर दबाव बनाया, तो उसने इसकी शिकायत विजिलेंस में की। रोहतक विजिलेंस की टीम ने जाल बिछाया और सभी आरोपियों को रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया गया।
प्रदेश की मनोहर सरकार एक तरफ जहां भ्रष्टाचार और इंस्पेक्टर राज खत्म करने का दावा करते नहीं थकती। वहीं बहादुरगढ़ के सेल टैक्स विभाग के अधिकारी सरकार के तमाम दावों को ठेंगा दिखा रहे हैं। सेल टैक्स विभाग के एक इंस्पेक्टर को दो दलालों के साथ एक लाख रुपये की रिश्वत लेते हुए रोहतक से आई विजिलेंस टीम ने बुधवार देर रात को गिरफ्तार किया है।
दिल्ली की सुपर कार्गो सर्विस लिमिटेड कम्पनी के मालिक सज्जन सिंह ने बताया था कि वह अपने ट्रकों में परचून का सामान लाता है। ट्रांसपोर्ट का एक ट्रक 14 जुलाई को राजस्थान के चिड़ावा व झुंझुनू से परचून का सामान लेकर दिल्ली के लिए चला था। 15 जुलाई की सुबह जब यह ट्रक झज्जर में बेरी क्षेत्र में पहुंचा तो यहां पर सेल टैक्स की सूचना पर बेरी थाना पुलिस ने पकड़ लिया। ट्रक पकड़े जाने की सूचना पाकर सेल्स टैक्स विभाग के इंस्पेक्टर संजय शर्मा मौके पर पहुंचे और उन्होंने ट्रक को अपने कब्जे में लेकर झज्जर की एक फैक्टरी में खड़ा कर दिया तथा फोन पर उसे सूचना दे दी। 17 जुलाई को जब वह बहादुरगढ़ पहुंचा तो संजय शर्मा और रोहतक निवासी दलाल अनिल शर्मा व सुनील शर्मा ने उनसे साढ़े 05 लाख रुपये की मांग की। जिस पर बाद में सौदा 04 लाख रुपये में तय हो गया। कुछ दिन बाद 02 लाख रुपये तो दलाल सुनील शर्मा के मार्फत संजय शर्मा को दे दिए थे लेकिन ट्रक छोड़ने के नाम पर इंस्पेक्टर संजय शर्मा दो लाख की मांग और भी कर रहा था।
सज्जन सिंह ने विजिलेंस को दी शिकायत में बताया कि वह रिश्वत नहीं देना चाहता है और संजय व दोनों दलाल के खिलाफ कार्रवाई करवाना चाहता है।
सज्जन सिंह की शिकायत पर विजिलेंस रोहतक के इंस्पेक्टर चंद्रवीर सिंह व ड्यूटी मजिस्ट्रेट तहसीलदार नरेंद्र दलाल के नेतृत्व में कार्रवाई की। बुधवार देर शाम को सांखोल गांव के पास से तीनों को काबू कर लिया। रोहतक विजिलेंस के इंस्पेक्टर ने बताया कि आरोपियों के कब्जे से पाउडर लगे 2-2 हजार रुपये के 50 नोट भी बरामद कर लिए। सभी आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया है और जांच की जा रही है।
फिलहाल विजिलेंस की टीम आरोपियों से यह जानने के में लगी हुई है कि विभाग के और कौन-कौन अधिकारी दलालों के जरिये चलने वाले इस खेल में शामिल हो सकते हैं। पुलिस अपनी जांच का दायरा भी बढ़ा चुकी है।

Share it
Top