शिवराज ने की रथ की पूजा, कल से जन आर्शीवाद यात्रा

शिवराज ने की रथ की पूजा, कल से जन आर्शीवाद यात्रा



भोपाल। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कल उज्जैन से शुरु होने वाली अपनी जन आर्शीवाद यात्रा के पहले आज यात्रा के 'रथ' की विधि-विधान से पूजा की।
आगामी विधानसभा चुनाव के पहले चौहान कल उज्जैन के महाकालेश्वर मंदिर में आर्शीवाद लेकर समूचे मध्यप्रदेश की जन आर्शीवाद यात्रा पर निकलने वाले हैं। पार्टी अध्यक्ष अमित शाह कल उज्जैन से इस यात्रा की शुरुआत कराएंगे। करीब 55 दिन की इस यात्रा के दौरान मुख्यमंत्री सभी 230 विभानसभाओं से होकर गुजरेंगे।
हाईटेक रथ की पूजा अर्चना के बाद मुख्यमंत्री चौहान पत्नी साधना सिंह चौहान के साथ इसमें सवार भी हुए। इस दौरान उन्होंने संवाददाताओं से कहा कि प्रदेश में 15 साल से भाजपा की सरकार है, इन सालों में सरकार का लक्ष्य जनकल्याण रहा है, इस लक्ष्य के लिए सरकार ने जो जनकल्याणकारी योजनाएं बनाई हैं, उन्होंने जनता की जिंदगी बदली है, पर ये मंजिल नहीं, एक पड़ाव है, प्रदेश को और आगे ले जाना है।
उन्होंने कहा कि इन जनकल्याणकारी कार्यों को लेकर पार्टी ने उन्हें यात्रा पर निकलने का आदेश दिया है। इसके तहत कल अध्यक्ष अमित शाह महाकाल दर्शन के बाद यात्रा शुरु कराएंगे। यात्रा के दौरान जनता को पिछले पांच साल में किए गए विकास कार्य से अवगत कराने के साथ अगले पांच साल के लिए आर्शीवाद मांगेंगे।
कांग्रेस की प्रदेश इकाई के अध्यक्ष कमलनाथ द्वारा आज उज्जैन में महाकालेश्वर मंदिर में कथित तौर पर प्रदेश सरकार पर आरोप संबंधित एक पत्र सौंपे जाने की खबरों के बारे में श्री चौहान ने कहा कि वे कांग्रेस के बारे में कुछ नहीं कहना चाहते, कांग्रेस ने प्रदेश को लगातार बदनाम करने का काम किया है, प्रदेश की प्रगति उनके मन में आनंद नहीं देती, बल्कि अलग प्रकार का द्वेष पैदा करती है।
पार्टी की प्रदेश इकाई के अध्यक्ष और सांसद राकेश सिंह ने कहा कि शिवराज सिंह चौहान सरकार के विकास कार्यों की बहुत स्वीकार्यता है और जनता इस यात्रा का इंतजार कर रही है ताकि मुख्यमंत्री को आर्शीवाद दे सके। उन्होंने दावा किया कि ये यात्रा सिर्फ यात्रा नहीं, विजय का शंखनाद होगी।
मुख्यमंत्री की इस यात्रा के दौरान दो रथ इस्तेमाल होंगे। यात्रा सप्ताह में चार दिन चलेगी। इस दौरान राज्यसभा सांसद प्रभात झा, जनसंपर्क मंत्री नरोत्तम मिश्रा, संगठन महामंत्री सुहास भगत और पार्टी उपाध्यक्ष विजेश लूनावत भी मौजूद थे।

Share it
Top