अगले 5 साल में राम मंदिर का निर्माण कराएं नरेंद्र मोदी अन्यथा संत समाज नाराज हो जाएगा: कंप्यूटर बाबा

अगले 5 साल में राम मंदिर का निर्माण कराएं नरेंद्र मोदी अन्यथा संत समाज नाराज हो जाएगा: कंप्यूटर बाबा

बड़वानी। मां नर्मदा मां शिप्रा व मां मंदाकिनी नदी आयोग के अध्यक्ष व कमलनाथ सरकार में राज्य मंत्री का दर्जा प्राप्त कंप्यूटर बाबा ने कहा है कि अगले पांच वर्षों के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को राम मंदिर का निर्माण सुनिश्चित कराना होगा अन्यथा संत समाज उनके खिलाफ हो जाएगा। आज दोपहर वृक्षारोपण, पर्यावरण संरक्षण व रेत के अवैध उत्खनन को लेकर बड़वानी जिला मुख्यालय पहुंचे नामदेव दास त्यागी उर्फ कंप्यूटर बाबा ने नरेंद्र मोदी को लेकर पूछे गए एक सवाल के जवाब में कहा कि 5 वर्ष हो गए और राम मंदिर निर्माण नहीं हुआ ।उन्होंने कहा कि श्री मोदी को अगले 5 वर्ष के लिए पुन: सत्ता मिली है और उन्हें अब राम मंदिर निर्माण कराना ही होगा और यदि ऐसा नहीं हुआ तो संत समाज उनसे नाराज हो जाएगा। कंप्यूटर बाबा ने रेत के अवैध खनन को रोकने के लिए पूछे गए सवाल पर कहा कि शिवराज सरकार में नर्मदा नदी की रेत का बहुतायत से अवैध उत्खनन हुआ और इस बिगड़ी व्यवस्था को सुधारने के लिए कमलनाथ सरकार ने निर्णय लिया है कि नर्मदा व उसकी सहायक नदियों में अवैध खनन किसी भी सूरत में रोका जाएगा। उन्होंने कहा कि नर्मदा में अवैध रेत उत्खनन रोकने में नाकाम रही शिवराज सरकार को इसी विरोध के चलते उन्होंने छोड़ा था। उन्होंने दिग्विजय सिंह को जिताने के लिए अनुष्ठान करने के बावजूद सफलता नहीं मिलने को लेकर उनकी कमजोर हुई छवि को लेकर पूछे गए प्रश्न पर कहा कि उन्होंने श्री सिंह के लिए अनुष्ठान जरूर किया लेकिन ऊपर वाले ने उसे स्वीकार नहीं किया। ट्रांसफर उद्योग को लेकर विधायकों तथा मंत्रियों द्वारा पैसा कमाने के भाजपा के आरोपों पर श्री कंप्यूटर बाबा ने कहा कि अभी कांग्रेस सरकार को सत्ता में आए कुछ ही समय हुआ है और भारतीय जनता पार्टी बेचैन हो उठी है । उन्होंने कहा कि वे मुख्यमंत्री से एसआईटी गठित कर एक दिन में सात करोड़ पौधे लगाने का दावा कर भ्रष्टाचार करने वालों की जांच कराने और उन्हें सलाखों के पीछे भेजने की मांग कर रहे हैं। उन्होंने राहुल गांधी की जगह किसी अन्य व्यक्ति को अध्यक्ष बनाए जाने को लेकर नाम सुझाये जाने के प्रश्न पर कहा कि वे कांग्रेस पार्टी से नहीं है, उनका काम केवल नर्मदा संरक्षण व संवर्धन का है।

Share it
Top