चिटफंड मामले में अब शिक्षा मंत्री को भी सीबीआई का नोटिस

चिटफंड मामले में अब शिक्षा मंत्री को भी सीबीआई का नोटिस


कोलकाता। अरबों रुपये के रोजवैली चिटफंड घोटाला मामले में पूछताछ के लिए अब राज्य के शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी को भी केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) ने नोटिस भेजा है। उन्हें शुक्रवार को ही हाजिर होने के लिए कहा गया था। हालांकि वह ना तो सीबीआई दफ्तर में गए और ना ही किसी नोटिस मिलने की बात को स्वीकार कर रहे हैं।

सीबीआई सूत्रों के हवाले से बताया गया है कि रोजवैली चिटफंड समूह से करोड़ों रुपये का लेनदेन हुआ था जिसका एक बड़ा हिस्सा तृणमूल के खाते में और बाद में वहां से पार्टी के मुखपत्र "जागो बांग्ला" के प्रकाशन के लिए भेज दिया गया था। चूंकि पार्थ चटर्जी तृणमूल कांग्रेस के महासचिव हैं और पार्टी के मुख्य प्रवक्ता भी, इसीलिए इस मामले में उनसे पूछताछ कर जांच एजेंसी यह समझने की कोशिश करेगी कि चिटफंड समूह के पैसे तृणमूल के खाते में क्यों लिए गए और उसका इस्तेमाल पार्टी के मुखपत्र को छापने के लिए क्यों किया गया। इस मामले में पहले ही जांच एजेंसी पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता व राज्यसभा सांसद डेरेक ओ ब्रायन से पूछताछ कर चुकी है।

विगत आठ अगस्त को ही डेरेक ओ ब्रायन सीबीआई दफ्तर गए थे, जहां उनसे पूछताछ हुई थी। अब इसी मामले में पार्थ से पूछताछ की जानी है। नोटिस को लेकर जब पार्थ चटर्जी से संपर्क किया गया तो उन्होंने कहा कि फिलहाल उन्हें कोई नोटिस नहीं मिला है, जब मिलेगा तो देखा जाएगा। रोजवैली चिटफंड से बड़ी धनराशि तृणमूल कांग्रेस के मुखपत्र "जागो बांग्ला" के अकाउंट में ट्रांसफर होने के सिलसिले में जांच में जुटी सीआईडी ने कई और शीर्ष नेताओं को नोटिस भेजने का मन बनाया है।

उल्लेखनीय है कि रोजवैली चिटफंड घोटाला मामले में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के बेहद करीबी फिल्म निर्माता श्रीकांत मोहता को सीबीआई की टीम ने गिरफ्तार किया है। पूछताछ में बताया है कि उसने रोज वैली के मालिक गौतम कुंडू से 25 करोड़ रुपये लिए थे, जिसे बाद में तृणमूल कांग्रेस के मुखपत्र "जागो बांग्ला" के अकाउंट में ट्रांसफर कर दिया गया था।


Share it
Top