मूक-बधिर दुष्कर्म : चार आरोपियों को जेल भेजा, तीन नई प्राथमिकी, एक और गिरफ्तार

मूक-बधिर दुष्कर्म : चार आरोपियों को जेल भेजा, तीन नई प्राथमिकी, एक और गिरफ्तार

भोपालमध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में दिव्यांग आश्रम में मूक बधिरों से दुष्कर्म के मामले में आज तीन नई प्राथमिकी दर्ज करते हुए पुलिस ने वहां की आया के बेटे को गिरफ्तार किया है। वहीं पहले गिरफ्तार चार आरोपियों को आज जेल भेज दिया गया।

भोपाल उत्तर के पुलिस अधीक्षक हेमंत चौहान ने बताया कि खजूरी थाना में आश्रम की तीन लड़कियों ने आया मीता मिश्रा के बेटे अभिषेक मिश्रा के खिलाफ दुष्कर्म का मामला दर्ज कराया है। पीड़िताओं में दो नाबालिग और एक बालिग है। आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है।

श्री चौहान ने बताया कि इस मामले में पहले ही गिरफ्तार किए जा चुके दिव्यांग आश्रम के संचालक एम पी अवस्थी, आश्रम की आया मीता मिश्रा, उसके पति विजय मिश्रा और सरकारी स्कूल में शिक्षक राकेश चौधरी को आज अदालत में पेश किया गया। जहां से उन्हें न्यायिक हिरासत पर जेल भेज दिया गया है।

भोपाल में दो दिन पहले इस सनसनीखेज मामले को खुलासा हुआ था। भोपाल के अलग-अलग थानों में अवस्थी सहित अन्य पर तीन मामले दर्ज किए गए थे। उसके खिलाफ टी टी नगर थाने में दुष्कर्म, अप्राकृतिक कृत्य आदि धाराओं में दो मामले शून्य का कायम किए गए थे, वहीं खजूरी थाने में लैंगिक अपराधों से बालकों का संरक्षण अधिनियम (पोक्सो), छेड़छाड़ आदि धाराओं पर प्रकरण दर्ज किए गए।

भोपाल के खजूरी थाना क्षेत्र के बैरागढ़ कला स्थित साई दिव्यांग अश्राम और होशंगाबाद में बंद हो चुके आश्रम के चार लड़कों और दो लड़कियों ने अवस्थी व अन्य के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज कराई थी।

टी टी नगर थाने में दर्ज प्रकरण होशंगाबाद और खजूरी थाना क्षेत्रों के होने से दोनों मामलों में शून्य पर कायमी करते हुए डायरी वहां भेज दी गई थी। ये मामले वर्ष 2004 से लेकर 2011 के बीच के हैं। तब पीड़ित अवस्थी के आश्रम में रहे हैं।

पीड़ित दो दिन पहले सांकेतिक भाषा विशेषज्ञ के साथ सामाजिक न्याय एवं निशक्तजन कल्याण विभाग के कार्यालय पहुंचे थे। यहां उन्होंने विभाग के संचालक कृष्ण गोपाल तिवारी से मुलाकात कर अपनी पीड़ा व्यक्त की थी। लड़कियों ने आरोप लगाया था कि अवस्थी ने उनके साथ दुष्कर्म किया और लड़कों ने यौन शोषण एवं अप्राकृतिक कृत्य की शिकायत की थी। काफी समय तक उनका यौन शोषण किया गया।

मूक बधिर बच्चों के सामाजिक न्याय एवं निशक्तजन कल्याण विभाग पहुंचने की सूचना मिलते ही प्रदेश कांग्रेस के मीडिया विभाग की अध्यक्ष शोभा ओझा भी वहां पहुंच गईं थी। शाम को वे पीड़ितों को लेकर टी टी नगर थाने पहुंची और देर रात तक मामला दर्ज होने तक वही डटी रही थीं।

लगभग एक महीने पहले भी भाेपाल में इस तरह का एक अन्य मामला सामने आया था। भोपाल के अवधपुरी इलाके में दिव्यांग छात्रावास के संचालक अश्विनी शर्मा को पुलिस ने धार जिले की कोतवाली थाना पुलिस ने एक पीड़िता की शिकायत पर दुष्कर्म, जबकि इंदौर जिले की हीरानगर थाना पुलिस ने दो बहनों की शिकायत पर छेड़छाड़ और पॉक्सो एक्ट के तहत, तो एक पीड़ित युवती की शिकायत पर कुकर्म, दुष्कर्म और अन्य धाराओं में गिरफ्तार किया था। अश्विनी इन दिनों जेल में है।

Share it
Share it
Share it
Top