दो नाबालिगों की दुष्कर्म के बाद हत्या करने वाले को फांसी की सजा...बिजनौर जिले के समीरपुर का निवासी है आरोपी

दो नाबालिगों की दुष्कर्म के बाद हत्या करने वाले को फांसी की सजा...बिजनौर जिले के समीरपुर का निवासी है आरोपी

देहरादूनउत्तराखंड में देहरादून जिले के ऋषिकेश में चार साल और 13 साल की दो सगी बहनों की दुष्कर्म के बाद हत्या के मामले में आरोपी परवान सिंह को बाल यौन अपराध निरोधक कानून (पोक्सो) के तहत गठित विशेष न्यायालय ने गुरुवार को फांसी की सजा सुनाई। विशेष न्यायालय की न्यायाधीश रमा पांडेय ने आरोपी परवान सिंह को दोषी मानते हुए उसे इस मामले में सजा-ए-मौत (फांसी) की सज़ा सुनाई है।

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) निवेदिता कुमार ने बताया कि यह मामला थाना ऋषिकेश के श्यामपुर का है। जहां 15 जून 2017 को शिकायतकर्ता सीता श्रेष्ठ नामक महिला ने एक प्रार्थना पत्र दिया कि किसी अज्ञात व्यक्ति ने उसकी दो नाबालिग लड़कियों की हत्या कर दी है। इस पर तत्काल ऋषिकेश पुलिस ने मौके पर पहुंच जांच की तथा मुकदमा अपराध संख्या 332/17 धारा 302/376 और 5/6 पोक्सो अधिनियम के तहत दर्ज किया।

पुलिस ने जांच के दौरान घटनास्थल पर मिले साक्ष्यों के आधार पर मौके से अभियुक्त सरदार परवान सिंह जो उत्तरप्रदेश के बिजनौर जिले के समीरपुर का निवासी है, को गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ में अभियुक्त परवान ने अपना अपराध स्वीकार कर लिया।

पुलिस ने पर्याप्त साक्ष्यों के आधार पर इस मामले में अभियुक्त के विरुद्ध दो सितंबर, 2017 को आरोप पत्र न्यायालय में दाखिल कर दिया। आरोप पत्र में कुल 14 गवाह रखे गए थे। उक्त मुकदमे मे जांचकर्ता द्वारा समय-समय पर उक्त केस की पैरवी करते हुए समस्त साक्षियों की गवाही कराई गई।

उल्लेखनीय है कि परवान ने घर में घुसकर पहले 13 साल की नाबालिग के साथ दुष्‍कर्म का प्रयास किया और बाद में उसकी हत्या कर दी। उसने पास बैठी चार साल की मासूम के साथ भी दुष्कर्म किया और फिर उसकी भी हत्या कर दी थी।

पीड़ित मां ने कोर्ट के फैसले पर खुशी जाहिर की है। वही दोषी के परिजनों का कहना है कि मामले को उच्च न्यायालय में चुनौती दी जाएगी।

Share it
Share it
Share it
Top