कैग ने उठाया एयर इंडिया के ‘मुनाफे’ पर सवाल

कैग ने उठाया एयर इंडिया के ‘मुनाफे’ पर सवाल

नयी दिल्ली।  नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (कैग) ने सरकारी विमान सेवा कंपनी एयर इंडिया की रिपोर्टिंग प्रणाली पर सवाल उठाते हुये कहा कि उसने परिसंपत्तियों के अवमूल्यन के लिए तथा अन्य मदों में प्रावधान न/न कर पिछले लगातार चार वित्त वर्ष में कम नुकसान या मुनाफा दिखाया है। एयर इंडिया लिमिटेड की जीर्णोद्धार योजना तथा वित्तीय पुनर्गठन योजना पर आज संसद में अपनी रिपोर्ट पेश करने के बाद कैग के महानिदेशक वी. कुरियन ने एक संवाददाता सम्मेलन में बताया कि वित्त वर्ष 2012-13 में अपना परिचालन घाटा 1,455.8 कराेड़ रुपये, 2013-14 में 2,966.66 करोड़ रुपये तथा 2013-14 में 1,992.77 करोड़ रुपये कम करके दिखाया।
आधी आबादी का रूझान पीएम मोदी की ओर..आखिरी चरण के मतदान में मोदी का क्रेज कर गया असर

उन्होंने कहा कि एयरलाइंस की वित्तीय रिपोर्टिंग में सबसे ज्यादा ज्यादा विसंगति प्रावधानों के मद में ही पायी गयी।
कुरियन ने एक सवाल के जवाब में इस रिपोर्ट से इतर जानकारी देते हुये कहा कि एकल आधार पर एयर इंडिया ने वित्त वर्ष 2015-16 में भी करीब 105 करोड़ रुपये का परिचालन लाभ दिखाया है जबकि वैधानिक ऑडिटरों ने तथा कैग ने पाया कि वास्तव में उसे 321.4 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ था। उन्होंने कहा कि एयरलाइंस को 2015-16 में करीब पौने तीन सौ करोड़ रुपये का प्रावधान परिसंपत्ति अवमूल्यन तथा सेवा कर के मद में करना चाहिये था जो उसने नहीं किया।

Share it
Top