विस विस्फोटक मामला: जांच में नपेंगे सुरक्षा अधिकारी

विस विस्फोटक मामला: जांच में नपेंगे सुरक्षा अधिकारी

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की 17वीं विधानसभा के मानसून सत्र के दूसरे दिन 12 जुलाई को विपक्ष नेता दल के टेबल के नीचे मिले विस्फोटक पदार्थ मिलने के मामले की जांच शुरू हो गई है। एनआई, एटीएस व खुफिया विभाग जांच के बाद विधानसभा की सुरक्षा में लगने वाले अधिकारी के खिलाफ कार्रवाई तय है।
कड़ी सुरक्षा के बावजूद विधानसभा में मिलने वाले विस्फोटक का मामला राष्ट्रीय स्तर पर पहुंच गया है। इस पर गृहमंत्रालय ने भी संज्ञान लिया है। तो वहीं कानून व्यवस्था एडीजी एलओ आनंद कुमार ने सुरक्षा में लगने वाली सेंध और आगामी सुरक्षा व्यवस्था को लेकर बैठक की। इस बैठक में पुलिस महानिदेशक डीजीपी सुलखान सिंह भी मौजूद रहे।
एडीजी एलओ ने अपने बयान में कहा कि पीईटीएन जैसा विस्फोटक मिलना एक गंभीर मामला है। जिसकी जांच खुद राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसी (एनआईए), एटीएस और खुफिया विभाग कर रही है। उनकी रिपोर्ट देर शाम तक आने की संभवाना है। तो वहीं विधानसभा में लगी थ्री लेयर की सुरक्षा में सेंध लगना व ड्यूटी के दौरान लापरवाही बरतने वाले अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई तय है।
सचिवालय की बढ़ाई गई सुरक्षा
विधानसभा में मिले विस्फोटक के बाद एडीजी एलओ आनंद कुमार ने मामले को गंभीरता से लिया है। उन्होंने सुरक्षा का लेकर भारी चूक होने की बात स्वीकारते हुए कहा कि इस प्रकार की लापरवाही का देखते हुए सुरक्षा की दृष्टि से सचिवालय समेत कई प्रशासनिक भवनों की सुरक्षा बढ़ा दी गई है।
इन पर हो सकती है कार्रवाई
विधानसभा की सुरक्षा के लिए एसपी रैंक का अधिकारी नियुक्ति किया जाता है। जिसकी बड़ी अहम भूमिका होती है। बरती गई लापारवाही को लेकर विधानसभा की सुरक्षा के लिए तैनात एसपी, आरआई, एएसपी राहुल मिठास समेत कई अधिकारियों व कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई की जायेगी।

Share it
Share it
Share it
Top