90 प्रतिशत महिलाएं होती हैं यौन उत्पीड़न की शिकार..!

90 प्रतिशत महिलाएं होती हैं यौन उत्पीड़न की शिकार..!

नयी दिल्ली । देश की 90 प्रतिशत महिलाएं और लड़कियां अपने जीवन में किसी न किसी रूप में यौन उत्पीड़न और छेड़छाड़ की शिकार होती हैं लेकिन वे इसकी शिकायत पुलिस से नहीं करती है और उसके विरुद्ध आवाज भी नहीं उठाती है।
महिलाओं की सुरक्षा के बारे में ‘केयर इंडिया’ नामक एक गैर सरकारी संगठन के सर्वेक्षण में यह बात सामने आयी है।
सर्वेक्षण के अनुसार 78 प्रतिशत महिलाओं को पुलिस हेल्पलाइन की जानकारी भी नहीं होती है।
सार्वजानिक स्थान पर महिलाओं के साथ हो रहे यौन उत्पीड़न के गवाह 88 प्रतिशत पुरुष भी होते हैं पर वे चुपचाप इसे देखते रहते हैं। पैंसठ प्रतिशत पुरुषों को महिला हेल्प लाइन की जानकारी भी नहीं होती है। सर्वेक्षण के अनुसार 37 प्रतिशत विवाहित महिलाएं अपने पतियों द्वारा शारीरिक या यौन हिंसा की शिकार होती हैं। सर्वे में शामिल 42 प्रतिशत महिलाओं का मानना है कि पुरुष, महिलाओं के साथ छेड़छाड़ को मनोरंजन का साधन मानते हैं तथा 58 प्रतिशत महिलाओं का मानना है कि पुरुष हमेशा महिलाओं के साथ यौन सम्बन्ध बनाने को तैयार रहते हैं।
सर्वेक्षण के मुताबिक 53 प्रतिशत पुरुष महिलाओं को फब्तियां या फ़िकरे कसकर यौन उत्पीड़न करते हैं जबकि 51 प्रतिशत पुरुष महिलाओं को घेरते हैं। सर्वेक्षण में शामिल 52 प्रतिशत छात्राओं को पुरुषों ने जबरन छूने, पकड़ने या चिकोटी काटने की हरकतें की।
पिता और चाचा ने बार-बार भला बुरा कहा..मुस्कुराते रहे…लेकिन…आखिरकार तमतमा ही गये अखिलेश
छेड़छाड़ की 52 प्रतिशत घटनाएं बस स्टैंड पर हुई जबकि 32 प्रतिशत घटनाएं स्कूल या कालेज के रास्ते में हुईं और 23 प्रतिशत घटनाएं तो स्कूल और कालेज के परिसर में हुईं। 44.6 प्रतिशत महिलाओं का मानना है कि उनके लिए कोई वक़्त सुरक्षित नहीं है जबकि 46.9 प्रतिशत का मानना है कि अँधेरा होने पर उनके लिए माहौल असुरक्षित हो जाता है जबकि 82.5 प्रतिशत का मानना है कि शाम को सार्वजनिक स्थान सुरक्षित नहीं होते। छेड़छाड़ की 48 प्रतिशत घटनाएं शाम को होती हैं जबकि 47 प्रतिशत घटनाएं दिन में होती हैं। महिलाओं का मानना है कि 83.5 प्रतिशत बस स्टॉप उनके लिए सुरक्षित नहीं उसी तरह 82.2 प्रतिशत रेलवे स्टेशन भी सुरक्षित नहीं और 82.2 प्रतिशत खुले हुए शौचालय सुरक्षित नहीं।
आप ये ख़बरें और ज्यादा पढना चाहते है तो दैनिक रॉयल unnamed
बुलेटिन की मोबाइलएप को डाउनलोड कीजिये….गूगल के प्लेस्टोर में जाकर
royal bulletin
टाइप करे और एप डाउनलोड करे..आप हमारी हिंदी न्यूज़ वेबसाइट
www.royalbulletin.com
और अंग्रेजी news वेबसाइटwww.royalbulletin.in को भी लाइक करे..कृपया एप और साईट के बारे में info @royalbulletin.com पर अपने बहुमूल्य सुझाव भी दें… 

Share it
Top