होमवर्क को न बनाएं टेंशन

होमवर्क को न बनाएं टेंशन

कामकाजी माता-पिता के लिए बच्चों को नियमित होमवर्क कराना एक बड़ी टेंशन है, वहीं गृहणियों के लिए भी बच्चों को एक स्थान पर बैठा कर होमवर्क कराना कोई आसान नहीं हे। ऐसे में यह समस्या कई घरों में गंभीर समस्या बन चुकी है। विशेषज्ञों ने इस बारे में कुछ महत्त्वपूर्ण जानकारियां दी हैं, अगर होमवर्क को थोड़ा इंटे्रस्टिंग बना कर करवाया जाए तो बच्चे उसे आसानी से पूरा कर लेते हैं, अगर उसे बोझ समझा जाए तो समस्या बढ़ जाती है।
– अगर पेरेंटस बच्चों को नियमित होमवर्क करने की आदत प्रारंभ से डाल दें तो बच्चे उसे अपनी पढ़ाई का एक भाग मानना शुरू कर देते हैं। बच्चों को बताया जाए कि होमवर्क नियमित करना उनके लिए इसलिए जरूरी है ताकि वे क्लास में कराई पढ़ाई को दोहरा सकें और थोड़ा एक्सट्रा पढ़ कर अपना ज्ञान आगे बढ़ा सकें।
– आगे बच्चा होमवर्क करते समय चिड़चिड़ करता है या उग्र हो जाता है तो उससे बात करें, कारण जानें। तब भी बच्चा आपको सहयोग नहीं कर पा रहा तो टीचर से मिलें और काउंसलर से मिलकर मदद लें।
– माता पिता बच्चों के पहले शिक्षक होते हैं उनका सहयोग और मार्गदर्शन बच्चों के लिए जरूरी है।
– माता-पिता को चाहिए कि वो बच्चों को पढऩे के लिए प्रोत्साहित करते रहें ताकि उनका पढ़ाई में इंटरेस्ट बना रहे।
– बच्चों के लिए होमवर्क करने का समय निश्चित करें अगर आप कामकाजी हैं तो आने के बाद समय बांधें। अगर पिता होमवर्क कराते हैं तो उन्हें बच्चे के साथ उसके कमरे में बैठना चाहिए। पहले सारे होमवर्क की जानकारी लेकर विषय अनुसार उसे होमवर्क करने को कहें और ध्यान दें बच्चा समय खराब न करे। उस समय में आप अखबार पढ़ सकते हैं। माता ने होमवर्क कराना है तो बच्चे को डाइनिंग टेबल पर बैठा कर साथ-साथ सब्जी काटते और बनाते समय उस पर निगरानी करते रहें ताकि बच्चा बिना समय गवाएं अपना होमवर्क पूरा कर सके। बच्चे को भी लगे अगर मैं व्यस्त हूं तो माता-पिता भी उस समय व्यस्त हैं।
बच्चों के लिए घर को बनाएं डेंजरप्रुफ

– बच्चे घर के अन्य सदस्यों को काम करते देखते हैं तो वे भी उत्साहित होकर अपना काम करते हैं।
– पैरेंटस को प्रारंभ से ही अनुशासनात्मक रवैय्या अवश्य अपनाना चाहिए ताकि अपना काम समय पर पूरा किया जा सके।
– बच्चों के होमवर्क अनुसार, बच्चों की क्षमता को ध्यान में रखते हुए समय सीमा बांधें ताकि बच्चा बिना समय गवाएं अपना काम पूरा कर सके।
– बच्चों के प्रोजेक्ट्स में उसकी मदद अवश्य करें।
– होमवर्क पूरा करने पर उन्हें कोई ऐसा लालच दें ताकि बच्चा खूशी से काम पूरा करे जैसे काम पूरा होने पर उसकी पसंद की गेम के लिए समय दें, उसकी पसंद का टीवी शो देखने दें, खेलने के लिए दोस्तों के साथ बाहर जाने दें, उसकी पसंद की कोई खाने या पीने वाले चीज दें।
– बच्चों को समझाएं होमवर्क बोझ नहीं है यह उनकी पढ़ाई का अति आवश्यक अंग है जो उन्हें आगे काम आएगा।
– बच्चों को पढऩे के लिए अच्छा, शांत माहौल दें।
कितने जरूरी हैं मेडिकल चेकअप

– घर का माहौल भी खुशनुमा रखें।
– लाइट की सही व्यवस्था का ध्यान दें, आसपास सफाई रखें।
– बच्चों को होमवर्क पूरा करने के लिए टाइम मैनेजमेंट का महत्त्व समझाएं।
– रोज का काम रोज निपटाने की आदत डालें, कल या बाद में करने को उत्साहित न करें।
– बच्चों की हैल्दी डाइट पर ध्यान दें।
– बच्चों की नींद पूरी हो उन्हें समय पर सुलाएं।
– जब बच्चे होमवर्क कर रहे हों स्वयं न तो टीवी देखें, न फोन पर बातें करें तभी बच्चे भी अनुशासित होकर काम करेंगे।
– सुनीता गाबा

Share it
Share it
Share it
Top