हे राम ! प्रधानमंत्री को बोलने क्यों नहीं देते…!

हे राम ! प्रधानमंत्री को बोलने क्यों नहीं देते…!

20_11_2016-modi-in-agra
गुजरात के डीसा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि ‘मुझे संसद में बोलने नहीं दिया जा रहा, इसलिए रैली में बोल रहा हूं।’ संभवतः यह पहली बार है जबकि कोई प्रधानमंत्री सार्वजनिक रूप से अपनी बेबसी को बता रहा है। वैसे इस पर विपक्ष के लोग पूछ सकते हैं कि जब आप देश और दुनिया के हर कोने में बोल सकते हैं तो फिर संसद जैसी अतिसुरक्षित जगह पर आपको बोलने से कौन रोक सकता है!
वेतन की सीमा 15,000 से बढ़ाकर अब 25,000 रुपये मासिक कर सकता है ईपीएफओ
यह बात इसलिए भी हजम नहीं होती क्योंकि पूर्ण बहुमत वाली सरकार होने के नाते प्रधानमंत्री जब चाहें आसंदी से इजाजत लेकर जितना चाहें बोल सकते हैं, लेकिन वहां तो सही-सही बोलना पड़ेगा इसलिए वो नहीं बोल सकते। कपोल-कल्पित कहानियां सुनाने की जगह संसद नहीं है, इसलिए प्रधानमंत्री बाहर बोलते हैं, इसके लिए उनसे पूछा जाना चाहिए कि वो सच बोलते क्यों नहीं!
add-royal-copy

Share it
Share it
Share it
Top