हरी मिर्च का समर्थन मूल्य 75 रुपये प्रति किलोग्राम हो : किसान संगठन

हरी मिर्च का समर्थन मूल्य 75 रुपये प्रति किलोग्राम हो : किसान संगठन

 दिल्ली। मिर्च की खेती की लागत में भारी वृद्धि और इसके मूल्य में गिरावट से परेशान किसानों ने सरकार से हरी मिर्च का न्यूनतम समर्थन मूल्य 75 रुपये प्रति किलो निर्धारित करने,इसकी खेती करने वाले राज्यों में कोल्ड स्टोरेज एवं आधारभूत सुविधाओं का विकास करने तथा निर्यात को बढावा देने की मांग की है।
फेडरेशन आफ आल इंडिया फारमर्स एसोसिएशन से जुड़े आन्ध्र प्रदेश, तेलंगाना, कर्नाटक, गुजरात आदि राज्यों के किसानों ने केन्द्रीय कृषि मंत्री राधा मोहन सिंह से मिर्च की खेती करने वाले किसानों के हितों की रक्षा के लिए नीतिगत बदलाव लाने तथा हरी मिर्च का न्यूनमत समर्थन मूल्य 75 रुपये प्रति किलो करने का अनुरोध किया है।
भारत मिर्च निर्यात में अगुआ है और विश्व की जरूरतों का लगभग 25 प्रतिशत की आपूर्ति करता है जबकि चीन का योगदान 24 प्रतिशत का है। मूल्य में अस्थिरता, निर्यात में कमी,कोल्ड स्टोरेज की कमी तथा सरकार से प्रोत्साहन के अभाव के कारण मिर्च के किसान तनाव में हैं।
राजीव गांधी की प्रतिमा तोड़ने के विरोध में कांग्रेस ने किया प्रदेशव्यापी प्रदर्शन..प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री का पुतला भी फूंका
आन्ध्र प्रदेश, तेलंगाना, ओडिशा, महाराष्ट्र, पश्चिम बंगाल, कर्नाटक, बिहार, राजस्थान, तमिलनाडु तथा कुछ अन्य राज्यों में मिर्च की खेती की जाती है। आन्ध्र प्रदेश और तेलंगाना में खेती योग्य जमीन के करीब 20 प्रतिशत हिस्से में मिर्च की खेती की जाती है और और कुल मिर्च उत्पादन में इनका योगदान 55 प्रतिशत का है। पिछले साल किसानों को मिर्च का काफी लाभदायक मूल्य मिला था जिससे उत्साहित किसानों ने इस वर्ष इसकी खेती के क्षेत्र में 45 प्रतिशत की वृद्धि की। पिछले साल मिर्च का मूल्य 140 रुपये प्रति किलोग्राम तक चला गया था जो इस बार गिरकर 35 से 40 रुपये किलो तक पहुंच गया है। न्यूनतम समर्थन मूल्य के नहीं होने तथा भंडारण सुविधा के अभाव के कारण किसानों को बहुत ही कम कीमत पर अपना उत्पाद बेचना पड़ रहा है। कुछ किसानों ने तो अपनी फसल तक जला दी है। किसानों की शिकायत है कि एक तो भंडारण सुविधा की कमी और दूसरे जहां कोल्ड स्टोरेज की सुविधा है भी वहां भंडारण की दर बहुत अधिक है। 

Share it
Top