हमने तो अब सोचना ही छोड़ दिया

हमने तो अब सोचना ही छोड़ दिया

सोशल चौपालवाट्सएप-
1- काली मिर्च ? 1000 में एक किलो सोचो अगर
गोरी होती तो
कितना भाव खाती??
2- हमने तो अब सोचना ही छोड़ दिया,
जब से
विद्या बालन कहने लगी है
की ‘जहां सोच वहा शौचालय !ट्विटर-
ग्वार फली ? 100 किलो सोचो, पढी लिखी होती तो कितना भाव खाती।

Share it
Top