स्वयं करें मिलावट की जांच

स्वयं करें मिलावट की जांच

जब कभी भी आप बाजार में कुछ खरीदने जाते हैं तो यही डर लगा रहता है कि कहीं मिलावटी चीज न खरीद लें। अत: इससे बचने के लिए निम्न बातें आप को सहायता पहुंचाएंगी जिससे आप घरेलू चीजों में मिलावट को पहचान सकते हैं।
– चाय पत्ती में मिलावट जांचने के लिए कागज के दो टुकड़े गीले करें। एक पर पत्ती बिछा लें। दूसरे को ऊपर रखकर दबायें। यदि रंग कागज पर उतर आता है तो मिलावट है। एक साधारण पहचान यह है कि शुद्ध पत्ती में दाने अधिक होते हैं जबकि मिलावट में चूरा अधिक।
– हींग की शुद्धता जांचने के लिए उसे जलाएं। असली हींग जलने पर हल्के नीले रंग की होगी। इसी तरह शुद्ध हींग पानी में घोलने पर पानी को दूध के रंग में बदल देगी।
– पिसे हुए गर्म मसाले में थोड़ा सा पानी डालकर इसे अच्छी तरह हिलाएं। सारी अशुद्धियां नीचे बैठ जाएगी।
– पिसी मिर्च की शुद्धता जांचने के लिए एक कटोरी पानी में इस मिर्च को कुछ देर भिगोएं। अगर रंग छोड़ दे तो मिलावट है।
– साबुत काली मिर्च के दानों को पानी में डालें। अगर दाने बैठ जाएं तो इसमें पपीते के बीज की मिलावट की गयी है।
सक्रियता और पौष्टिक आहार मानसिक रोगों को रखते हैं दूर..!

– थोड़े से सिरके में चीनी घोलें। अचछी तरह 5-7 मिनट तक हिलाएं। फिर इस घोल में कुछ बूंद देशी घी डालें। यदि शुद्ध घी होगा तो अच्छी तरह हिलाने पर लाल रंग में बदल जायेगा। यदि इसमें मिलावट होगी तो रंग हल्का पीला हो जायेगा।
– साबुत मिर्च या हल्दी की शुद्धता जांचने के लिए किसी रूई के टुकड़े पर तेल लगाकर इन मसालों पर फिराएं। अगर कोई दूसरी चीज रंग कर मिलाई गयी तो रूई पर रंग उतर आयेगा।
ताकि आंखों की ज्योति रहे बरकरार

– किसी भी पैक सामान को लें तो सर्वप्रथम उसकी पैकिंग की तिथि और एक्सपायरी डेट देंखें।
– उसकी स्पेलिंग को देखें। यदि इसमें किसी अक्षर को छिपाया गया है तो यह नकली चीज है।
– उसकी लिखावट को देखें क्योंकि नकली चीजों की लिखावट असली के समान नहीं होती।
– सरकार द्वारा प्रमाणित चीजें ही खरीदे क्योंकि ये शुद्ध व स्वच्छ होती हैं।
– जगत किशोर सोलंकी ‘अनित’

Share it
Share it
Share it
Top