सौंफ, इलायची, पान लाभप्रद हैं खाने के बाद…!

सौंफ, इलायची, पान लाभप्रद हैं खाने के बाद…!

 अधिकतर घरों में सौंफ, इलायची का प्रयोग मसालों के रूप में होता है और पान मौज मस्ती के लिए खाया जाता है जबकि इनका स्वास्थ्य और पाचन क्रिया को दुरूस्त रखने में भी अहम स्थान है। सौंफ पाचन और कब्ज दोनों से निजात दिलाने में मदद करता है और इलायची मुंह की बदबू दूर करने मे मदद करती है। इसी प्रकार पान के पत्ते भी हमारे स्वास्थ्य सुधार में मदद करते हैं। अगर शरीर की पाचन प्रणाली ठीक न हो तो कई प्रकार की समस्याएं हमें घेर लेती हैं जैसे गैस, एसिडिटी, कब्ज, डायरिया, अपच और बदहजमी आदि। कुछ घरेलू नुस्खे हैं जिनका प्रयोग कर हम अपच और गैस जैसी समस्याओं पर काबू पा सकते हैं।
सौंफ के लाभ:-
– सौंफ का नियमित सेवन याददाश्त बढ़ाता है।
– खाली पेट सौंफ का सेवन करने से खून साफ होता है। खून साफ होने से त्वचा में निखार आता है।
– अगर मुंह में दुर्गन्ध आती हो तो दिन में दो से तीन बार आधा छोटा चम्मच सौंफ चबाना चाहिए।
– सौंफ और मिश्री के नियमित सेवन से आंखों की ज्योति बढ़ती है।
– कब्ज की समस्या होने पर सौंफ का सेवन करें।– सौंफ के सेवन से पाचन और कब्ज संबंधी समस्याओं से राहत मिलती है।
– एक कप पानी में सौंफ, 3 इलायची, अदरक व चुटकी भर हींग अच्छे से मिक्स कर पीने से गैस और अफारा से राहत मिलती है।
इलायची के लाभ:-

– खाना खाने के बाद इलायची का सेवन लाभप्रद होता है इसमें मौजूद तत्व खाने को पचाने में मदद करते हैं।
– अंदरूनी जलन होने पर भी इलायची का सेवन लाभप्रद होता है।
– अगर उलटी की फीलिंग हो रही हो तो इलायची मुंह में रखकर हल्का हल्का चूसते रहें। शरीर में उपलब्ध फ्री रेडिकल ओर अन्य विषैले तत्वों को दूर करने में मदद मिलती है।
– इलायची के सेवन से भी रक्त साफ होता है।
– इलायची मुंह की दुर्गन्ध को दूर करने में मदद करती है।
छात्रों के लिए घातक है लापरवाही

पान के लाभ:-
– पान में कई तरह के एंटीसेप्टिक गुण होते हैं। पान माउथ फ्रेशनर का भी काम करता है।
– पान चबाने से लार ग्रंथि पर भी प्रभाव पड़ता है जिससे लार बनने में मदद मिलती है जो हमारे पाचन तंत्र हेतु लाभप्रद है।
– भारी भोजन करने के बाद पान का सेवन करने से भोजन आसानी से पचता है।
बाल कथा : अच्छी बुरी संगति

– अगर मसूड़ों में सूजन हो, गांठ हो या खून आ रहा हो तो पान के पत्तों को पानी में उबालकर मैश कर मसूड़ों पर हल्के से रगड़ें और पानी से कुल्ला करें।
– पान के पत्ते का रस गैस्ट्रिक अल्सर में लाभ पहुंचता है।
– फोड़े फुंसी होने पर पान के पत्ते को गरम कर उसमें अरंडी का तेल लगाकर फोड़े फुंसी पर लगाने से आराम मिलता है।
– पान के पत्तों के साथ फ्लैक्स सीड्स, त्रिफला और नींबू का सेवन करने से कब्ज दूर होती है।
-सुनीता गाबा

Share it
Top