सौंदर्य का शत्रु है तनाव..आज से ही तनाव से छुटकारा पाने के उपाय में लग जाइये..!

सौंदर्य का शत्रु है तनाव..आज से ही तनाव से छुटकारा पाने के उपाय में लग जाइये..!

 आपाधापी की इस होड़ में आज सभी इस कदर लिप्त हैं कि आज अपना ही जीवन जटिल हो गया है। हम कभी-कभी तो किसी वजह से और कभी बिना वजह ही तनावग्रस्त हो जाते हैं लेकिन हम में कितने यह जानते हैं कि तनाव व्यक्ति की जिदंगी को नीरस बना कर जीवन के प्रति उदासीन बना देता है। चार दिनों के इस जीवन को खुशी-खुशी जीने में ही जीवन की सार्थकता है।
गौर कीजिये कहीं आप भी तनाव की शिकार होकर अपनी खूबसूरती को दांव पर तो नहीं लगा रहीं जिसे पाने के लिए लोग काफी उपाय करते हैं। अगर हां तो आज से ही तनाव से छुटकारा पाने के उपाय में लग जाइये क्योंकि यह शत्रु (तनाव) आपके सौंदर्य पर भी दाग लगाता है।
– अधिक चिंता से रक्त संचार बाधित होता है जिसका प्रभाव त्वचा पर भी पड़ता है।
– तनाव से चेहरे पर झाइयां आती हैं।क्यों होती है एलर्जी..एलर्जी की बीमारी में परहेज इलाज से बेहतर है..!

– अत्यधिक तनाव से चेहरा तैलीय होता है, फलत: कील-मुंहासों की समस्या आ जाती है।
– तनाव और चिंता के फलस्वरूप उम्र अधिक दिखती है यानी बुढ़ापा जल्दी आ जाता है।
-अत्यधिक तनाव से चेहरे और त्वचा की कांति तो नष्ट होती ही है, साथ ही गंजेपन की स्थिति भी आ जाती है।
– तनावपूर्ण आंखें पीली व चमकरहित होती हैं तथा आंखों की रोशनी भी इससे प्रभावित होती है।
– अधिक चिंता करने से बालों में रूसी आ जाती है तथा नाखूनों का रंग पीला हो जाता है तथा उनकी वृद्धि रूक जाती है।
– तनावग्रस्त महिलाओं की स्फूर्ति खत्म हो जाती है। वे सदैव आलस्य अनुभव करती हैं।
– तनाव से कभी व्यक्ति कुपोषण का शिकार हो जाता है तो कभी अधिक खाने के फलस्वरूप मोटापे का शिकार हो जाता है।
एक बढिय़ा आउटिंग है शॉपिंग..एक अच्छा मूड लिफ्टर भी है ..!

– तनाव से व्यक्ति चिड़चिड़ा हो जाता है, फलत: सौंदर्य का हृास होता है।
– मानसिक तनाव से कभी भी आत्मसंतोष नहीं होता। फलत: चेहरे पर अजीब तरह की उदासी सौंदर्य का हृास करती है।
– अत्यधिक तनाव से निद्रा दूर भागती है और चेहरे का सौंदर्य बिगड़ता है।
– तनावग्रस्त व्यक्ति की रोग प्रति रोधक क्षमता खत्म हो जाती है, फलत: व्यक्ति विभिन्न तरह की बीमारियों से ग्रस्त हो जाता है।
– ज्यादा तनाव और दबाव हमारे मस्तिष्क और हमारे शरीर को खोखला कर देता है।
– अपने प्रति आदर और प्यार की भावना लाकर जीवन सफल बनायें।
– सदैव नयी चीजें सीखने का प्रयास करें। तभी अपनी कमियों को पूरा कर गुणों में निखार ला सकते हैं।
– हीन भावना से दूर रहने के लिए लोगों के सम्पर्क में रहें और अपनी सोच को सकारात्मक बनायें।
– अपनी इच्छाशक्ति को सुदृढ़ बनाकर मन को अच्छे साहित्य की ओर मोडें।
– विद्या भूषण शर्मा

Share it
Top