सोना-चाँदी सुस्त

सोना-चाँदी सुस्त

नयी दिल्ली। अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर दोनों कीमती धातुओं पर बने दबाव के बीच डॉलर के मुकाबले रुपये के टूटने से दिल्ली सर्राफा बाजार में सोना 29,165 रुपये प्रति दस ग्राम और चाँदी 39,100 रुपये प्रति किलोग्राम पर स्थिर रही।

एशियाई बाजारों के कारोबार के दौरान सोने में गिरावट दर्ज की गयी थी और सोना हाजिर तीन सप्ताह के निचले स्तर 1252.05 डॉलर प्रति औंस तक उतर गया था। हालाँकि, यूरोप में बाजार खुलने के बाद बाद यह कुछ वापसी करने में कामयाब रहा और 0.30 डॉलर की बढ़त के साथ 1,254.75 डॉलर प्रति औंस पर रहा। अमेरिका में ब्याज दरों में बढ़ोतरी के बाद गत दो दिन इसमें गिरावट देखी गयी थी।
सहारनपुर को फिर झुलसाने की कोशिश, निर्माणाधीन धार्मिक स्थल में मूर्ति से छेड़छाड़ के बाद आगजनी
अगस्त का अमेरिकी सोना वायदा भी 1.9 डॉलर प्रति औंस की तेजी के साथ 1,256.5 डॉलर प्रति औंस पर रहा। चाँदी हाजिर 0.8 डॉलर चमककर 16.80 डॉलर प्रति औंस बोली गयी। 

बाजार विश्लेषकों का कहना है कि अमेरिकी फेडरल रिजर्व द्वारा ब्याज दरों में वृद्धि के फैसले के बाद से डॉलर लगातार मजबूत हुआ है जिससे पीली धातु पर दबाव पड़ा है। डॉलर के चढऩे से अन्य मुद्रा वाले देशों के लिए सोने का आयात महँगा हो जाता है जिससे माँग घटने से इसकी कीमतों में नरमी आती है।
1993 के मुंबई बम धमाके मामले में अबू सलेम समेत 6 दोषी करार,एक बरी,19 जून को होगा सजा का ऐलान …!
स्थानीय बाजार में सोने पर दो कारक काम कर रहे थे। एक तरफ इस पर वैश्विक दबाव था तो दूसरी ओर रुपये के कमजोर पडऩे से इसकी कीमतों को समर्थन मिल रहा था। दोनों के कारकों के संतुलन से सोना स्टैंडर्ड गत दिवस के 29,165 रुपये प्रति दस ग्राम और सोना बिटुर 29,015 रुपये प्रति दस ग्राम पर स्थिर रहा। आठ ग्राम वाली गिन्नी भी 24,400 रुपये पर टिकी रही।चाँदी में भी टिकाव रहा। चाँदी हाजिर 39,100 रुपये और वायदा 38,965 रुपये प्रति किलोग्राम पर अपरिवर्तित रही। सिक्का लिवाली और बिकवाली भी गत दिवस के क्रमश: 72 हजार और 73 हजार रुपये प्रति सैकड़ा पर रहे। कारोबारियों ने बताया कि एक तरफ बाजार में माँग सुस्त है और वैश्विक तथा मौद्रिक कारकों में संतुलन की स्थिति है। इससे सोने में टिकाव रहा। आने वाले समय में भी पीली धातु का रुख इन्हीं तीनों कारकों पर निर्भर करेगा।

Share it
Top