सरकार का मधुमक्खी पालन पर जोर

सरकार का मधुमक्खी पालन पर जोर

नई दिल्ली। कृषि मंत्री राधामोहन सिंह ने आज कहा कि किसानों की आय में वृद्धि के लिए मधुमक्खी पालन से न केवल अतिरिक्त आय की प्राप्ति होती है बल्कि परागन के कारण फसलों की उत्पादकता में भी वृद्धि होती है। श्री सिंह ने यहां राष्ट्रीय कृषि सम्मेलन खरीफ अभियान को संबोधित करते हुए कहा कि देश में 2012-13 में 72,300 टन शहद का उत्पादन किया जाता था जो 2016-17 में बढ़कर 94,500 टन हो गया है। उन्होंने खुशी जताते हुए कहा कि बिहार, दिल्ली, हरियाणा, पंजाब, उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, मणिपुर, जम्मू कश्मीर, तमिलनाडु और मध्य प्रदेश में समेकित मधुमक्खी पालन विकास केन्द्र स्वीकृत किये गये है जिनमे से बिहार,हरियाणा और दिल्ली में यह ऊर्जान्वित भी हो चुके है। कृषि मंत्री ने कहा कि वर्ष 2017-18 में देश के 10 अन्य राज्यों में समेकित मधुमक्खी पालन विकास केन्द्र स्वीकृत किये जायेगे। उन्होंने कहा कि यह एक ऐसा व्यवसाय है जो किसान खेती के साथ-साथ कर सकते है और इसके लिए बहुत अधिक पूंजी की भी आवश्यकता नहीं होती है।

Share it
Top