सबके दिलों में समाएं ऐसे

सबके दिलों में समाएं ऐसे

स्त्री-पुरूष कोई भी हो, वह चाहता है कि उसका प्रभाव दूसरों पर ऐसा पड़े कि वे उसे हमेशा याद रखें। कुछ लोग दूसरों के दिलों में समाने के लिए कुछ गलत हरकते करते हैं ताकि लोग उनकी तरफ ध्यान दें और दूसरी ओर कुछ लोग अपने गुणों और अपने व्यवहार से दूसरों का दिल जीतते हैं और उनके दिल में अपना स्थान बनाते हैं।
ऐसे लोग हमेशा अपनी छाप दूसरों पर इस कद्र छोड़ते हैं कि लोग उन्हें बात-बात पर याद किए बिना नहीं रह सकते। यदि आप भी चाहते हैं कि आप दूसरों के दिल में समाएं तो अपने गुणों और व्यवहार की ओर ध्यान दें। अपने अवगुणों का त्याग कर दूसरों के मन में समाएं।
– मधुर वाणी बोलें ताकि आप दूसरों में अपनी विशिष्ट पहचान बना सकें। कटु वाणी सुनना कोई भी पसन्द नहीं करता।
– अपना व्यक्तित्व शांत और सौम्य बना कर रखें ताकि आपका व्यक्तित्व आपकी पहचान बन सके।
– हमेशा खुश रहें। मुस्कुराता चेहरा सब को अच्छा लगता है। खुशी बांटने से दुगुनी होती है। दुखी चेहरा देखना किसी को भी अच्छा नहीं लगता।
– अपने अहम को आड़े मत आने दें। बड़ों का सम्मान करें और सबकी भावनाओं का आदर करें।
– कम बोलें। अधिक बोलने से अनजाने में दूसरों को कभी ठेस भी पहुंच सकती है।
मोबाइल बजा रहा है खतरे की घंटी
– पहनावा इस तरह का पहनें जो शालीन हो और आपके व्यक्तित्व को निखारें। आयु, अवसर और मौसम के अनुसार परिधानों का चयन करें।
– बिन मांगी सलाह दूसरों को बोर कर सकती है। दूसरों का दर्द सुनें, उनके दु:खों को बांटे, उन्हें समय दें क्योंकि दु:ख बांटने से दुख कम होता है।
– हमेशा सच बोलने का प्रयास करें। सांच को आंच नहीं, इस कहावत को सभी जानते हैं।
– अपने मुंह मियां मिटृठू न बनें। बढ़ा चढ़ा कर बातें न करें। स्वयं कम बोल कर दूसरों को बोलने का मौका दें और धैर्य बरतें।
– अपने अच्छे व्यवहार और कार्यो से प्रशंसा का पात्र बनें। सब के प्रति सदभावना बना कर रखें। दूसरों के प्रति गलत धारणाएं न बनाएं।
– दूसरों के अच्छे गुणों को अपने अंदर ढालने का प्रयास करें। औरों का मजाक न उड़ाएं।
– यदि आपका साथ दूसरों को प्रिय लगता है तो आप व्यवहार कुशल हैं।
दुर्गंधयुक्त पसीने से बचें
– निंदा स्तुति से दूर रहें।
– अपनी योग्यता से दूसरों को लाभ दें ताकि वे आपकी इज्जत कर सकें।
– छोटों के प्रति व्यवहार नर्म तथा प्रेम भरा रखें। गलतियां माफ करना सीखें। उन्हें बढ़ावा न दें। क्षमा करना सीखें।
– हमेशा स्वयं को सही मत समझें। दूसरों की बातों पर ध्यान दें और वे कुछ समझा रहे हों तो ध्यानपूर्वक बात समझें।
– सारिका

Share it
Share it
Share it
Top