शादी से पहले की अनचाही जबरदस्ती को भूल ही जायें…!

शादी से पहले की अनचाही जबरदस्ती को भूल ही जायें…!

दीपा चौदह साल की थी तब गर्मी की छुट्टियों में मौसी उसे अपने घर ले गई। कम उम्र के बावजूद अच्छे स्वास्थ्य की वजह से उम्र में दो चार साल बड़ी लगने के साथ सुंदर और आकर्षक भी लगती थी।
दीपा के मौसा जो संतानहीन थे, दीपा में विशेष रूचि लेने लगे। उसे घूमना, पिक्चर दिखाना और कुछ न कुछ जबरदस्ती खिलाना, साथ ही वह जब तब दीपा के उभारों को ऐसे छू देते मानो अनजाने में हुआ है।
एक दिन वे दीपा को एक रोमांटिक पिक्चर दिखाने ले गये। पिक्चर में कई सेक्सी और उत्तेजक सीन थे। वे घर आये तब मौसी किसी पड़ोसन के पास कथा में चली गई। इसका मौसा ने पूरा फायदा उठाया और कम उम्र की लड़की को बहला फुसलाकर संबंध बना लिये।
मौसी आ गई। उसे पता चल गया। पति से झगड़ी लेकिन करे क्या? कहीं गड़बड़ न हो जाये, उस डर से मौसी दीपा को ले कर डॉक्टर के पास भी गई। सब कुछ ठीक होने पर मौसी ने उस समय इस बात को हमेशा को भूल जाने को कहा। मौसी ने कहा, ‘बेटी तू सुखी पत्नी बनना चाहती है तो शादी के बाद भूलकर भी पति से इस घटना का जिक्र मत करना।’
दीपा ने मौसी की बात को गांठ में बांध लिया और उस घटना को भुला दिया। आज वह तन-मन से पति को समर्पित है। नतीजा, उसका वैवाहिक जीवन पूर्णतया सुखी है।
सरोज को रमेश से प्यार हुआ। उसके संबंध प्रगाढ़ हुए और एक दिन रमेश के जोर देने पर सरोज ने समर्पण कर दिया। पढ़ाई के बाद रमेश नौकरी की तलाश में मुंबई चला गया। सरोज की शादी कमल से हो गई।
नेल पालिश से बढ़ाएं हाथों की सुंदरता

एक दिन पति-पत्नी शादी से पहले के संबंध पर चर्चा करने लगे। सरोज ने बातों ही बातों में सब कुछ बता दिया। कौन पति बरदाश्त कर सकता है कि पत्नी शादी से पहले ही किसी की हो चुकी है। कमल ने सरोज को छोड़ दिया।
रूपा और रमन कॉलेज में साथ पढ़ते थे। उनमें प्यार भी हुआ और शारीरिक संबंध भी स्थापित हो गये लेकिन रूपा की शादी रमन से नहीं हो पायी। रूपा की शादी सुरेश से हुई।
सुरेश खुशमिजाज पति था। वह रूपा जैसी सुन्दर पत्नी पाकर खुश था। शादी के बाद के पांच साल गुजर गये और वे एक बच्चे के माता पिता बन गये। एक दिन बातों ही बातों में न जाने क्यों रूपा ने सब कुछ बता दिया।
शादी से पहले के संबंध का पता चलने पर सुरेश बदल गया। रूपा के दांपत्य में दरार पड़ गई। एक छत के नीचे पति-पत्नी रहते हुए भी उनके रिश्ते बेगाने से हो गये हैं।
हमारे यहां सेक्स फ्री नहीं है पति-पत्नी के शारीरिक संबंध ही मान्य हैं। पति चाहता है, उसकी पत्नी सिर्फ तन-मन से ही उसकी न रहे बल्कि शादी से पहले भी उसके संबंध किसी से न रहे हों। अगर पति को शादी पूर्व पत्नी के किसी पर पुरूष से शारीरिक संबंध का पता चल जाये तो वह इसे बरदाश्त नहीं कर पाता।
ऐसा होने पर वह पत्नी को तलाक दे सकता है। बिना तलाक के भी त्याग सकता है। इन दोनों स्थितियों के अलावा आदमी पति-पत्नी के संबंध न भी तोड़े तो यह बात तो निश्चित है कि पति-पत्नी के संबंध मधुर नहीं रहेंगे। दांपत्य में दरार पड़ जायेगी।
दुनिया का सबसे टेक्निकल सवाल होता है..

अगर शादी से पहले चाहे या अनचाहे आपके शारीरिक संबंध किसी पुरूष से रह चुके हैं तो शादी के बाद उसे भुला दें। शादी से पहले के संबंध को अतीत का हिस्सा मानकर उसे दफनायें। पति से भूलकर भी इसका जिक्र न करें। याद रखें, पति चाहे कितना ही समझदार और उदार हो, परपुरूष से संबंध की बात उसे हर्गिज न बतायें।
अगर इसके लिए आपको झूठ भी बोलना पड़े तो कोई हर्ज नहीं। जिंदगी को बचाने वाला झूठ बोलना गलत नहीं है। सच बोलकर अपना दांपत्य उजाड़ लेना कहां की अक्लमंदी है।
दीपा ने शादी से पहले हुई जबरदस्ती की पति को नहीं बताई तो वह सुखी है। सरोज ने शादी से पहले परपुरूष से सम्पर्क की बात पति को बता दी। उसे परित्यक्ता बनना पड़ा। रूपा को परित्यक्ता तो नहीं बनना पड़ा लेकिन वह पति की नजरों में गिर गई। अगर आप चाहती हैं कि आपका दांपत्य जीवन सुखी रहे, पति आपको चाहता रहे, उसकी नजरों में आपकी इज्जत बनी रहे तो शादी से पहले अगर आपके परपुरूष से कोई संबंध बने हों तो उन्हें भूल जायें।
-किशन लाल शर्मा

Share it
Share it
Share it
Top