शाकाहारी व्यंजनों से सेहत..शाकाहारी होना सेहत के लिए अच्छा

शाकाहारी व्यंजनों से सेहत..शाकाहारी होना सेहत के लिए अच्छा

फास्ट फूड के जमाने में लोग अक्सर अपनी सेहत की परवाह कम करते हैं। अच्छे और लजीज खाने की बात जब भी आती है तो हर कोई मांसाहार की तरफ आकर्षित होता है जबकि शाकाहारी होना सेहत के लिए अच्छा है।
वैसे, मांसाहारी भोजन विटामिन, आयरन और प्रोटीन का अच्छा स्रोत माना जाता है लेकिन ऐसी कई शाकाहारी चीजें हैं जिनमें आयरन, प्रोटीन और विटामिन की काफी मात्रा होती है।
शाकाहारी व्यंजन भी अगर सही विधि और सही सामग्री के साथ बनाया जाए तो उसका भी स्वाद बहुत अधिक लजीज हो सकता है। एक टेलीविजन चैनल के रिएलिटी शो ‘मास्टर शेफ इंडियाÓ के सत्र चार को तो पूरी तरह से शाकाहारी व्यंजनों पर केंद्रित रखा गया था।
मास्टर शेफ संजीव कपूर कहते हैं कि सही ढंग से शाकाहारी भोजन बनाना थोड़ा कठिन होता है। उनके मुताबिक खाने का रंग और स्वाद थोड़े से बदलाव से बदल जाता है जैसे कि मटर और गाजर के रंग और उसके स्वाद को व्यंजन बनाने तक बनाए रखना कठिन होता है लेकिन अगर आपको खाना बनाने की जानकारी हो तो आप उसके स्वाद और रंग को बनाए रख सकते हैं।
खाने को आकर्षक बनाने की भी एक कला होती है। खाने का महत्त्व हमेशा से रहा है और आगे भी रहेगा। मौके के मुताबिक खाना देखने में आकर्षक भी होना चाहिए। पहले खाना जीवन शैली का आधार होता था, अब जीवन शैली खाने से जुड़ चुकी है।
आजकल शाकाहारी खाने का चलन बढ़ रहा है। इसकी वजह नए-नए प्रयोग है जिनके उदाहरण रेस्तरां में मिल जाते हैं। वहां, शाकाहारी व्यंजन कुछ इस तरह परोसे जाते हैं कि लोग उसे खाए बिना नहीं रह पाते।
विदेशों में भी शाकाहारी व्यंजन काफी लोकप्रिय हैं क्योंकि हिंदुस्तानी खाने का स्वाद सबसे अलग और स्वाद से भरपूर होता है।
शाकाहारी व्यंजन में प्रयोग की जाने वाली सब्जियां ताजी हों, इसका ध्यान रखना आवश्यक है। शोधों से पता चला है कि शाकाहारी व्यंजन में प्रोटीन की मात्र कम होती है, वहीं, शाकाहारी व्यक्ति प्रोटीन को अपनी आवश्यकतानुसार संतुलित करके पूर्ण कर सकता है। शाकाहारी भोजन से व्यक्ति में बीमारियां कम होती हैं।
अधिक खाने से लोग अधिक पड़ते हैं बीमार..!

शाकाहारी व्यंजनों के लाभ:
० हरी सब्जियों में फाइबर होता है, जो पेट की पाचन क्रिया को ठीक रखता है।
० शाकाहारी आहार में वसा और सोडियम होने की वजह से रक्तचाप नियंत्रित रहता है।
० शाकाहारी पदार्थों में टॉक्सिन की मात्रा कम होती है जिससे कैंसर जैसी बीमारियों का खतरा कम रहता है।
० शाकाहारी भोजन से वजन नियंत्रित रहता है क्योंकि इससे पेट भरा रहता है और भूख कम लगती है।
शाकाहारी व्यंजन आकर्षक बनाने के टिप्स:

० शाकाहारी व्यंजन को सजाते समय हमेशा रंग-बिरंगी सब्जियों का प्रयोग करें।
० गाजर, चुकंदर, मटर, शिमला मिर्च आदि किसी से सजावट करने से पहले उसे हल्का पका लें या सेंक लें।
० दही, क्रीम, नींबू, मिर्च आदि के प्रयोग से स्वाद को दोगुना बनाएं।
० शाकाहारी व्यंजन में गहरे रंग की सब्जियों व फलों का प्रयोग अधिक करें।
० शाही खाने में स्टफिंग अधिक आवश्यक है। क्रीम और रंग-बिरंगी चीजों की स्टफिंग करें।
० शाही भोजन कभी-कभी पकाया जाता है, इसलिए इसमें विटामिन, वसा न्यूट्रीऐंट्स के बारे में ज्यादा न सोच कर स्वाद के बारे में ही सोचें।
डिप्रेशन से कैसे पायें छुटकारा…?

सब्जियों को ताजा रखने के ढंग:

० पत्तेदार हरी सब्जियों को पहले धो कर सुखा लें। उन्हें अच्छी तरह साफ कर किसी डिब्बे में रखें।
० पत्तेदार सब्जियों को सुखाने के लिए पेपर टावेल का प्रयोग करें।
० पत्तेदार सब्जियों को, खरीदने के एक-दो दिन के भीतर प्रयोग कर लें ताकि स्वाद और रंग बना रहे।
० पत्तेदार सब्जियों को हमेशा पेपर टावेल में लपेट कर फ्रिज में रखें।
शाकाहारी व्यंजन की परंपरा नानी-दादी के जमाने से है। गोल-गोल पूरियां और रोटियां बेलना आसान काम नहीं। विदेशों में लोग अधिकतर शाकाहारी व्यंजन नहीं पसंद करते। यहां तक कि वहां हरी सब्जियां, तले-भुने बिना सिर्फ उबली हुई खाना पसंद करते हैं।
मसालेदार छोले, अमृतसरी कुलचे, हलवा, जलेबी आदि कई ऐसे व्यंजन हैं जिनके नाम सुन कर ही व्यक्ति को भूख लग जाती है। खाने में आजकल नए-नए प्रयोग हो रहे हैं। आजकल लोग केवल गाजर का हलवा नहीं बल्कि लौकी का हलवा, मटर का हलवा आदि नए-नए प्रयोग कर स्वादिष्ट भोजन बनाते हैं। इसकी कल्पना सालों पहले नहीं की जा सकती थी।
– नरेंद्र देवांगन

Share it
Share it
Share it
Top