विराट का डबल, भारत ने 687 पर की पारी घोषित

विराट का डबल, भारत ने 687 पर की पारी घोषित

हैदराबाद। विराट कोहली (204) के रिकार्ड चौथे दोहरे शतक और रिद्धिमान साहा तथा मुरली विजय के बेहतरीन शतकों की बदौलत भारतीय क्रिकेट टीम ने बंगलादेश के खिलाफ एकमात्र टेस्ट के दूसरे दिन शुक्रवार को छह विकेट पर 687 रन का विशाल स्कोर बनाने के बाद अपनी पहली पारी घोषित कर दी। भारत ने बंगलादेश के खिलाफ यहां राजीव गांधी अंतरराष्ट्रीय स्टेडियम में दूसरे दिन अपनी पारी की शुरूआत कल के तीन विकेट पर 356 रन से आगे बढ़ाते हुये की थी और दिन का खेल समाप्त होने से कुछ ओवर पूर्व 166 ओवर में छह विकेट के नुकसान पर 687 रन बनाकर अपनी पारी को घोषित कर दिया। बंगलादेशी टीम ने इसके बाद अपनी पहली पारी की शुरूआत की और दिन का खेल समाप्त होने तक एक विकेट के नुकसान पर 14 ओवरों में 41 रन बना लिये। मेहमान टीम के अभी नौ विकेट सुरक्षित हैं और वह भारत के स्कोर से अभी 646 रन पीछे हैं। बल्लेबाज तमीम इकबाल 24 और मोमिनुल हक एक रन बनाकर क्रीज पर डटे हुये हैं। बंगलादेश का एक विकेट तेज गेंदबाज उमेश यादव ने सौम्य सरकार (15) को साहा के हाथों कैच कराकर लिया। पहली पारी में भारत के लिये कप्तान विराट ने सर्वाधिक 204 रन बनाये जो उनका लगातार चौथी सीरीज में चौथा दोहरा शतक है। इसके अलावा ओपनिंग बल्लेबाज मुरली विजय ने 108 रन, विकेटकीपर बल्लेबाज रिद्धिमान साहा ने नाबाद 106 रन की शतकीय पारियां खेलीं जबकि चेतेश्वर पुजारा ने 83, अजिंक्या रहाणे ने 82 और रवींद्र जडेजा ने नाबाद 60 रन की अर्धशतकीय पारियां खेलकर भारत के स्कोर में योगदान दिया। रविचंद्रन अश्विन ने 34 रन बनाये।
भारतीय टीम के शीर्ष छह में से पांच बल्लेबाजों ने 80 से सर्वाधिक स्कोर बनाकर भारत को 600 के पार स्कोर पर पहुंचाया जिसके साथ ही वह लगातार तीन टेस्टों में 600 से ज्यादा का स्कोर बनाने वाली भी पहली टीम बन गयी है। भारतीय पारी में बंगलादेश के लिये बायें हाथ के स्पिनर तैजुल इस्लाम 47 ओवर में 156 रन पर तीन विकेट लेकर सबसे सफल गेंदबाज रहे। मेहदी हसन मिराज को 42 ओवर में 165 रन पर दो विकेट और तस्कीन अहमद को 25 ओवर में 127 रन पर एक विकेट मिला। दुनिया के सर्वश्रेष्ठ ऑलराउंडरों में शुमार शाकिब अल हसन पूरी तरह फ्लाप साबित हुये और 24 ओवरों में 104 रन लुटाकर कोई विकेट नहीं निकाल सके। कामरूल इस्लाम रब्बी को 100 रन पर कोई विकेट नहीं मिला। मैच के पहले दिन की तरह दूसरा दिन भी भारतीय बल्लेबाजों के नाम रहा जिसमें विराट एक बार फिर सभी सुर्खियां और वाहवाही बटोर ले गये। भारतीय क्रिकेट का पर्याय बन चुके 28 वर्षीय बल्लेबाज ने लगातार चौथी टेस्ट सीरीज में विपक्षी टीम के खिलाफ दोहरा शतक बनाया और वह ऐसा करने वाले पहले क्रिकेटर बन गये हैं। उन्होंने इस मामले में महान क्रिकेटर सर डॉन ब्रैडमैन और राहुल द्रविड़ को भी पीछे छोड़ दिया है जिन्होंने लगातार तीन सीरीज में दोहरा शतक बनाया था। विराट ने मैच में बंगलादेश के खिलाफ पहले ही दिन अपना शतक पूरा किया था, जो उनका टेस्ट में 16वां शतक है। इसके बाद उन्होंने अपनी पारी को बखूबी आगे बढ़ाते हुये सुबह के सत्र में 170 गेंदों में 19 चौके लगाकर अपने 150 रन पूरे किये और लंच के ठीक बाद 239 गेंदों में 24 चौके जड़ते हुये अपने 200 रन पूरे कर लिये। विराट ने 246 गेंदों में कुल 24 चौके लगाये। विराट ने पिछले सात महीने में वेस्टइंडीज, न्यूजीलैंड और फिर इंग्लैंड के खिलाफ दोहरे शतक बनाये हैं।
यूपी को बनाएंगे नम्बर वन..परिवर्तन के इस महायज्ञ में मतदान के जरिए भाजपा को आहूति देना न भूलें: अमित शाह

विराट जब 180 के स्कोर पर थे तब आफ स्पिनर मेहदी की गेंद पर उन्हें पगबाधा दिया गया था। हालांकि कप्तान ने इस निर्णय को रिव्यू के लिये भेजा जिसे बाद में पलट दिया गया और उन्होंने इस जीवनदान का फायदा उठाते हुये अपने 24वें चौके के साथ दोहरा शतक पूरा किया। इससे पहले भारत ने सुबह अपने कल के 356 के स्कोर से आगे खेलना शुरू किया था। उस समय विराट 111 और अजिंक्या रहाणे 45 रन पर नाबाद थे। दोनों बल्लेबाजों ने फिर चौथे विकेट के लिये 222 रन की दोहरी शतकीय साझेदारी निभाई। हालांकि रहाणे लंच से पहले ही तैजुल इस्लाम की गेंद पर मेहदी हसन को कैच दे बैठे। लेकिन फिर लंच तक भारतीय टीम ने बिना कोई और विकेट गंवाये चार विकेट पर 477 रन बनाए। रहाणे ने 133 गेंदों की पारी में 11 चौके लगाकर 82 रन बनाये। विराट और रहाणे के बीच यह चौथे विकेट के लिये संयुक्त तीसरी बार 200 से ज्यादा की साझेदारी भी है। विराट फिर अपना दोहरा शतक पूरा करने के बाद ज्यादा देर तक टिक नहीं सके और तैजुल इस्लाम ने उन्हें पगबाधा कर भारत के 495 के स्कोर पर पांचवें बल्लेबाज के रूप में आउट किया। हालांकि बंगलादेशी गेंदबाजों को इसके बाद भी कोई राहत नहीं मिल सकी और छठे नंबर के बल्लेबाज रिद्धिमान ने 155 गेंदों की पारी में सात चौके और दो छक्के लगाकर नाबाद 106 रन बनाये जो उनका पांचवां टेस्ट शतक है। साहा ने रविचंद्रन अश्विन के साथ छठे विकेट के लिये 74 रन और फिर रवींद्र जडेजा के साथ 118 रन की अविजित साझेदारी की।
बिजनौर में पीएम मोदी ने कहा , अखिलेश जी कान खोलकर सुन लो, 11 मार्च को खुलेगा आपका कच्चा चिट्ठा..!

अश्विन ने 45 गेंदों की पारी में चार चौके लगाकर 34 रन बनाये। मेहदी हसन ने अश्विन को सौम्य सरकार के हाथों कैच कराकर बंगलादेश को छठा विकेट दिला दिया। जडेजा ने भी अपना अर्धशतक पूरा किया और 78 गेंदों में चार चौके और दो छक्के लगाकर 60 रन बनाये और साहा के साथ भारत को 687 के स्कोर तक पहुंचाने के बाद मैदान से अविजित लौटे। भारत अपने 700 के स्कोर से मात्र 13 रन ही दूर था कि कप्तान विराट ने फिर भारत की पहली पारी को दिन का खेल समाप्त होने से कुछ ओवर पहले छह विकेट पर 687 के स्कोर पर घोषित कर दिया। यह भारत का टेस्ट क्रिकेट में पारी में पांचवां सर्वाधिक स्कोर भी है। उसका टेस्ट मैच की पारी में सर्वाधिक 759 रन का स्कोर चेन्नई में इंग्लैंड के खिलाफ गत वर्ष दिसंबर में रहा था। भारतीय जमीन पर पहली बार टेस्ट खेल रही बंगलादेशी टीम इतने विशाल स्कोर के सामने अच्छी शुरूआत नहीं दिखा सकी और तमीम तथा सौम्य सरकार पहले विकेट के लिये मात्र 38 रन ही जोड़ सके। तेज गेंदबाज उमेश ने बंगलादेश को उसकी पहली पारी में पहला झटका सरकार को विकेटकीपर साहा के हाथों आउट कर दे दिया। सरकार 31 गेंदों में तीन चौके लगाकर 15 रन ही बना सके। तमीम ने 48 गेंदों में तीन चौके लगाकर नाबाद 24 रन बनाये। भारतीय गेंदबाजों में उमेश ने दो ओवर में मात्र दो रन पर एक विकेट निकाला।

Share it
Top