विजयादशमी पर यहां होती है रावण की पूजा

विजयादशमी पर यहां होती है रावण की पूजा

ravan-puja-new-photoमंदसौर। रावण दहन को बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक मानकर हम दशहरे का त्योहार पूरे जोश के साथ मनाते हैं। 
दशहरे में रावण, कुंभकरण और मेघनाथ के पुतलों को जलाने की परंपरा से तो आप सब वाकिफ़ है पर भारत में कई ऐसी जगह हैं जहां दशहरा मनाने की परंपरा बिल्कुल अलग है। 
 आज मध्यप्रदेश में कई स्थान ऐसे हैं जहां पर लोग रावण दहन नहीं बल्कि रावण की पूजा करते हैं। इन स्थानों पर रावण के लिए बकायदा मंदिर भी बनाए गए हैं।यहां था रावण का ससुरालमंदसौर में रावण का ससुराल था। यहां के लोग रावण को अपना दामाद मानते हैं। कहा जाता है कि मंदसौर का असली नाम दशपुर था, और यह रावण की धर्मपत्नी मंदोदरी का मायका था। इसलिए इस शहर का नाम मंदसौर पड़ा। यहां की बेटी रावण से ब्याही गई थी, इसलिए यहां दामाद के सम्मान की परंपरा के कारण रावण के पुतले का दहन करने की बजाय उसे पूजा जाता है। मंदसौर के रूंडी में रावण की मूर्ति बनी हुई है, जिसकी पूजा की जाती है।
ravan2
यहां पर होती है विशेष ‘रावण बाबा’ की विशेष पूजा
मध्य प्रदेश के विदिशा से करीब 50 किमी दूर रावण गांव के रावण मंदिर में गांव वाले पूजा-अर्चना कर महाबली रावण से गांव की खुशहाली की दुआ मांगते हैं। इस परंपरा को गांव वाले सालों से निभाते चले आ रहे हैं. दशहरे के अवसर पर यहां पर विशेष पूजा का भी आयोजन किया जाता है।ये सभी दशानन को रावण नहीं बल्कि सम्मान के साथ ‘रावण बाबा’ बुलाते हैं। रावण मंदिर के पुजारी नरेश तिवारी बताते हैं कि रावण बाबा की प्रतिमा सालों से गांव के पास है ।
नाबालिग लड़की से घर मे घुसकर रेप का प्रयास, पंचायत ने सुनाया पांच चप्पल मारने का फरमान
उन्होंने बताया कि दशहरे के दिन बाबा की प्रतिमा की नाभि में रुई में तेल लेकर लगाया जाता है। मान्यता है ऐसा करने से उनकी नाभि में लगे तीर के बाद दर्द कम होगा और वे गांव में खुशहाली देंगे।
रावण दहन नहीं, सुरक्षा के लिए पूजा
उज्जैन जिले के चिखली गांव में रावण दहन की परंपरा नहीं है बल्कि यहां तो रावण को पूजा जाता है। कहा जाता है, कि रावण की पूजा नहीं करने पर गांव जलकर राख हो जाएगा। इसी डर से ग्रामीण यहां रावण दहन नहीं करते और सुरक्षा के लिए उसकी मूर्ति की पूजा करते हैं।दैनिक रॉयल बुलेटिunnamed
न की मोबाइलएप को डाउनलोड कीजिये….गूगल के प्लेस्टोर में जाकर royal bulletin टाइप करे और एप डाउनलोड करे..आप हमारी हिंदी न्यूज़ वेबसाइट
www.royalbulletin.com
और अंग्रेजी news वेबसाइटwww.royalbulletin.in को भी लाइक करे..कृपया अपने बहुमूल्य सुझाव भी दें…info @royalbulletin.com परuntitled-1-3

Share it
Share it
Share it
Top