वाहनों की बिक्री में 44 माह की सबसे बड़ी गिरावट

वाहनों की बिक्री में 44 माह की सबसे बड़ी गिरावट

bikeनई दिल्ली। नोटबंदी के कारण नवंबर में घरेलू बाजार में यात्री, वाणिज्यिक, दुपहिया तथा तिपहिया वाहनों की बिक्री बुरी तरह प्रभावित हुई तथा वाहनों की कुल बिक्री 5.48 प्रतिशत घटकर 16,54,407 इकाई रह गयी। यह मार्च 2013 के बाद सबसे बड़ी गिरावट है। पिछले साल नवंबर में देश में 16,54,4०7 वाहन बिके थे।
वाहन निर्माता कंपनियों के संगठन सियाम के महानिदेशक विष्णु माथुर ने आज यहाँ बिक्री के मासिक आँकड़े जारी करते हुये स्वीकार किया कि एक हजार रुपये तथा पाँच सौ रुपये के पुराने नोटों को प्रतिबंधित करने के बाद देश में उत्पन्न नकदी की समस्या के कारण ग्राहकों की धारणा कमजोर हुई है, जिससे बिक्री घटी है। उन्होंने कहा कि नोटबंदी की घोषणा के बाद पहले सप्ताह में शोरूमों में आने वाले ग्राहकों का औसत बेहद कम हो गया। अब भी यह नोटबंदी के पहले की तुलना में 85 प्रतिशत तक ही पहुँच सका है।
चेन्नई में आभूषण विक्रेताओं के घरों पर छापे, 90 करोड़ नगद और 100 किलो सोना बरामद
आँकड़ों के अनुसार, सिर्फ यात्री वाहनों की बिक्री में मामूली तेजी देखी गयी। यह अक्टूबर के 4.48 प्रतिशत से घटकर नवंबर में 1.82 प्रतिशत रह गयी। पिछले साल नवंबर में देश में कुल 2,36,664 यात्री वाहन बिके थे जबकि इस साल नवंबर में यह संख्या 2,4०,979 इकाई रही। इससे पहले सितंबर में इसमें 19.92 प्रतिशत, अगस्त में 16.68 प्रतिशत, जुलाई में 16.78 प्रतिशत तथा जून में 2.68 प्रतिशत दर्ज की गयी थी। यात्री वाहनों में यात्री कारों की बिक्री 0.29 प्रतिशत बढ़कर 1,73,606 इकाई, उपयोगी वाहनों की 10.07 प्रतिशत बढ़कर 53,800 इकाई तथा वैनों की 7.50 प्रतिशत घटकर 13,573 इकाई रह गयी।
add-royal-copy

Share it
Top