वाटसन के दिमाग को पढऩे की कोशिश कर रहा था: तिवारी

वाटसन के दिमाग को पढऩे की कोशिश कर रहा था: तिवारी

बेंगलुरु। रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु के खिलाफ आखिरी ओवरों में धमाकेदार पारी खेलने वाले राइजिंग पुणे सुपरजाएंट्स के बल्लेबाज मनोज तिवारी ने कहा है कि वह आखिरी ओवरों में गेंदबाज शेन वाटसन के दिमाग को पढऩे की कोशिश कर रहे थे। तिवारी ने रविवार को बेंगलुरु के खिलाफ 11 गेंदों में 27 रन की तेजतर्रार पारी खेली। इस दौरान उन्होंने तीन चौके और दो छक्के लगाये और पुणे को आठ विकेट पर 161 रन के चुनौतीपूर्ण स्कोर तक पहुंचा दिया। पुणे ने यह मैच 27 रन से जीता। तिवारी ने मैच के बाद संवाददाता सम्मेलन में कहा, मैं गेंदबाज के दिमाग में क्या चल रहा है, इसे पढऩे की कोशिश कर रहा था। मैं देख रहा था कि वाटसन महेंद्र सिंह धोनी के खिलाफ किस तरह की गेंदबाजी करने की कोशिश कर रहे हैं। उससे अलग गेंदबाजी की। इस तरह उन्होंने धोनी का विकेट भी लिया। 31 वर्षीय क्रिकेटर ने कहा कि वाटसन ने जिस तरह का क्षेत्ररक्षण लगाया था। उससे मुझे पता चल गया था कि वह मेरे खिलाफ किस तरह की गेंदबाजी करने वाले हैं। लेकिन जब एक बाउंसर वाइड हो गई तो मुझे चल गया था कि वह दोबारा ऐसी गेंद नहीं फेकेंगे। उन्होंने मेरे क्षेत्र में गेंदबाजी की। वह अपनी रणनीति में चूके और मैंने इसका भरपूर फायदा उठाया।

Share it
Top