वर्ष 2000 या इससे पहले की प्रॉपर्टी बेचने पर 2001 की गाइडलाइन से तय होगी कीमत

वर्ष 2000 या इससे पहले की प्रॉपर्टी बेचने पर 2001 की गाइडलाइन से तय होगी कीमत

नई दिल्ली। अब वर्ष 2000 या इससे पहले की पुश्तैनी या खुद खरीदी गई प्रॉपर्टी बेचने पर आयकर विभाग उसकी कीमत 2001 की गाइडलाइन से तय करेगा। 2001 से पहले सभी जगह प्रॉपर्टी की गाइडलाइन नहीं होने से रजिस्ट्री में दर्ज कीमत के आधार पर ही आयकर विभाग वर्तमान साल के हिसाब से प्रॉपर्टी की इंडेक्स कास्ट निकालता था। फिर वर्तमान में जिस कीमत में प्रॉपर्टी बेची गई है, उसमें से इंडेक्स कॉस्ट घटाकर बाकी राशि पर 20 फीसदी टैक्स की गणना करता था। जैसे- 1995 में किसी प्रॉपर्टी का मूल्य 10 लाख रुपए था तो पुराने बेस ईयर के आधार पर 1995 में 100 रुपए 281 रुपए के बराबर होता था। तब आयकर विभाग के हिसाब से साल 2016-17 में प्रॉपर्टी की इंडेक्स कास्ट 40 लाख 3558 रुपए होती। यदि प्रॉपर्टी 50 लाख रुपए में बेची है तो विभाग इस कीमत में से इंडेक्स कास्ट घटाकर 9.96 लाख रुपए पर 20 कैपिटल गैन टैक्स लेता।
यूपी चुनाव : विधायक कमाल यूसुफ सपा छोड़कर बसपा में शामिल..!
1995 की प्रॉपर्टी का मूल्य भले ही 10 लाख रुपए है, लेकिन आयकर विभाग अब 2001 की गाइडलाइन देखेगा। इस हिसाब से प्रॉपर्टी की कीमत 15 लाख रुपए हुई तो 2016-17 में नए बेस ईयर से आयकर विभाग के अनुसार इसकी नई इंडेक्स कॉस्ट 39.60 लाख रुपए होगी। यदि प्रॉपर्टी 50 लाख में बेची तो कैपिटल गैन टैक्स 10.40 लाख रुपए पर लगेगा।नए बेस ईयर के अनुसार ये होगा 100 रुपए का मूल्यवर्ष कीमत (रु. में)2016-17 -2642015-16-  2542014-15 -2402009-10- 1482005-06- 1172001-02- 100 

Share it
Share it
Share it
Top