वर्तमान अप्रत्यक्ष कराधान प्रणाली 16 सितंबर 2017 तक ही है : जेटली

वर्तमान अप्रत्यक्ष कराधान प्रणाली 16 सितंबर 2017 तक ही है : जेटली

नई दिल्ली। सरकार ने आज कहा कि वर्तमान अप्रत्यक्ष कराधान प्रणाली 16 सितंबर 2017 को समाप्त हो जायेगी और 01 अप्रैल से 16 सितंबर 2017 के बीच वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) कभी भी लागू किया जा सकता है।
श्री जेटली ने भारतीय वाणिज्य एवं उद्योग महासंघ (फिक्की) की 89वीं वार्षिक आम बैठक के दूसरे दिन जीएसटी को भारतीय उद्योग के लिए महत्वपूर्ण बताते हुये कहा कि 16 सितंबर 2016 को इस जीएसटी से जुड़ा संविधान संशोधन एक वर्ष के लिए प्रभावी हुआ है और इस दौरान वर्तमान अप्रत्यक्ष कराधान प्रणाली के स्थान पर जीएसटी लागू किया जाना है।
उन्होंने कहा कि जीएसटी से जुड़े कानूनों के प्रारूपों पर जीएसटी परिषद में चर्चा चल रही है। कुछ मुद्दों पर सहमति बनाने की कोशिश जारी है और इसमें कोई विशेष कठिनाई नहीं होगी। संविधान संशोधन के बाद जीएसटी परिषद को कई कानूनों के मसौदों को अंतिम रूप देना है।
कालाधन रखने वालों के लिए आखिरी मौका : कर और जुर्माना देकर बना सकते हैं जमा राशि को वैध
उन्होंने कहा कि 01 अप्रैल 2017 से 16 सितंबर के बीच कभी भी जीएसटी लागू किया जा सकता है। यह आयकर नहीं है। यह लेनदेन कर है और इसको 01 अप्रैल से ही लागू करने की अनिवार्यता नहीं होती। उन्होंने कहा कि जीएसटी परिषद में 10 महत्वपूर्ण मुद्दों पर सहमति बन चुकी है। अब एक ही मुद्दा बचा हुआ है और उस भी सहमति बन जायेगी।

Share it
Top