लिवाली से चौथे दिन चढ़ा शेयर बाजार

लिवाली से चौथे दिन चढ़ा शेयर बाजार

मुंबई। वैश्विक बाजारों से मिले सकारात्मक संकेतों के बीच घरेलू स्तर पर बैंकिंग तथा टिकाऊ उपभोक्ता उत्पाद समूहों की कंपनियों में लिवाली से आज घरेलू शेयर बाजार शुरुआती गिरावट से उबरता हुआ पांच महीने के नये उच्चतम स्तर पर बंद हुआ। बाजार में लगातार चौथे कारोबारी दिवस तेजी रही है। बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 0.35 प्रतिशत यानी 100.01 अंक की बढ़त के साथ 28,761.59 अंक पर तथा नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 0.32 फीसदी यानी 28.65 अंक चढ़कर 8,907.85 अंक पर बंद हुआ। सेंसेक्स 55.12 अंक की बढ़त के साथ 28,716.70 अंक पर खुला, लेकिन बड़ी कंपनियों में बिकवाल के दबाव में एक घंटे के भीतर ही लाल निशान में चला गया। करीब चार घंटे तक यह गिरावट में रहा। इस दौरान एक समय यह 28,597.33 अंक के दिवस के निचले स्तर तक उतर गया था। हालांकि, इसके बाद एक्सिस बैंक, एशियन पेंट्स और रिलायंस इंडस्ट्रीज जैसी कंपनियों में हुई लिवाली के सहारे कारोबार की समाप्ति से पहले 28,801 अंक के दिवस के उच्चतम स्तर को छूता हुआ यह 28,761.59 अंक पर बंद हुआ। यह 22 सितंबर 2016 के बाद का इसका उच्चतम बंद स्तर है। कोटक महिंद्रा के साथ विलय की खबरों को खारिज करने के बाद एक्सिस बैंक में पांच प्रतिशत की तेजी रही। जियो इंफोकॉम की सभी सेवाएं नि:शुल्क देने का ऑफर समाप्त करने की घोषणा के बाद रिलायंस इंडस्ट्रीज के शेयर 1.36 प्रतिशत चढ़े। निफ्टी भी 11.55 अंक ऊपर 8,890.75 अंक पर खुला। कारोबार के दौरान 8,860.95 अंक के दिवस के निचले तथा 8,920.80 अंक के उच्चतम स्तर से होता हुआ यह 28.65 अंक चढ़कर पिछले साल 08 सितंबर के बाद पहली बार 8,900 अंक के मनोवैज्ञानिक स्तर से ऊपर 8,907.85 अंक पर बंद हुआ।
बड़ी कंपनियों में लिवाली के समय सुबह जब सेंसेक्स लाल निशान में गया था उस समय भी मझौली तथा छोटी कंपनियों में लिवाली का जोर था। कारोबार की समाप्ति पर बीएसई का मिडकैप 0.52 प्रतिशत चढ़कर 13,585.33 अंक पर तथा स्मॉलकैप 0.46 प्रतिशत चढ़कर 13,651.91 अंक पर रहा। बीएसई में कुल 3,007 कंपनियों के शेयरों में कारोबार हुआ। इनमें 1,551 के शेयर बढ़त में तथा 1,269 के गिरावट में बंद हुये जबकि 187 में कोई बदलाव नहीं हुआ।
रालोद की मदद से ही उत्तर प्रदेश में बनेगी अगली सरकार…जीतेंगे 50 सीट …!

एशियाई शेयर बाजारों में चीन का शंघाई कंपोजिट 0.41 प्रतिशत, जापान का निक्की 0.68 प्रतिशत तथा दक्षिण कोरिया को कोस्पी 0.89 प्रतिशत की तेजी के साथ बंद हुआ जबकि हांगकांग का हैंगसेंग 0.76 फीसदी फिसल गया। अधिकतर यूरोपीय बाजार भी हरे निशान में रहे। जर्मनी का डैक्स सूचकांक 0.43 प्रतिशत चढ़ गया। बीएसई के समूहों में दूरसंचार (2.35 प्रतिशत), आईटी (0.17 प्रतिशत), टेक (0.51 प्रतिशत) तथा यूटिलिटीज की नगण्य गिरावट को छोड़कर अन्य समूह बढ़त में रहे। सबसे ज्यादा 2.44 प्रतिशत की तेजी टिकाऊ उपभोक्ता उत्पाद समूह में देखी गयी। बैंकिंग 0.97 प्रतिशत, एनर्जी 0.88, फाइनेंस 0.86, तेल एवं गैस 0.82, पीएसयू 0.67, इंडस्ट्रियल्स 0.60 तथा सीडीजीएंडएस 0.51 प्रतिशत की बढ़त में रहे। सेंसेक्स की 30 में से 19 कंपनियाँ के शेयरों में लिवाली का जोर रहा। एक्सिस बैंक में सर्वाधिक 4.99 प्रतिशत की तेजी रही। एशियन पेंट््स के शेयर 1.61, रिलायंस इंडस्ट्रीज के 1.36, एचडीएफसी के 1.27, अदानी पोट्र्स के 1.18, हिंदुस्तान यूनिलिवर के 1.17, आईसीआईसीआई बैंक के 0.96, हीरो मोटोकॉर्प के 0.82, टाटा स्टील तथा ओएनजीसी दोनों के 0.80, टाटा मोटर्स के 0.76, भारतीय स्टेट बैंक के 0.52, ल्युपिन के 0.50, एनटीपीसी तथा बजाज ऑटो दोनों के 0.47, एचडीएफसी बैंक के 0.36, इंफोसिस के 0.12, एलएंडटी के 0.09 तथा गेल के 0.02 प्रतिशत चढ़े। भारती एयरटेल के शेयर 3.38 प्रतिशत, टीसीएस के 1.68, आईटीसी के 0.94, सनफार्मा के 0.93, मारुति सुजुकी के 0.48, पावर ग्रिड के 0.29, सिप्ला के 0.22, डॉ. रेड्डीज लैब के 0.16, कोल इंडिया के 0.14 तथा महिंद्रा एंड महिंद्रा के 0.02 प्रतिशत लुढ़क गये। वहीं, विप्रो के बंद भाव में कोई बदलाव नहीं हुआ।

Share it
Top