रूमानी अदाओं से दीवाना बनाया मौसमी चटर्जी ने

रूमानी अदाओं से दीवाना बनाया मौसमी चटर्जी ने

मुंबई। बॉलीवुड में मौसमी चटर्जी को एक ऐसी अभिनेत्री के तौर पर शुमार किया जाता है जिन्होंने 70 और 80 के दशक में अपनी रूमानी अदाओं से दर्शकों को अपना दीवाना बनाये रखा। 26 अप्रैल 1953 को कोलकाता में जन्मी मौसमी चटर्जी ने अपने अभिनय जीवन की शुरूआत वर्ष 1967 में प्रदर्शित बंगला फिल्म बालिका वधू से की। उनकी यह फिल्म टिकट खिड़की पर सुपरहिट साबित हुयी। बॉलीवुड में मौसमी चटर्जी ने अपने करियर की शुरूआत वर्ष 1972 में प्रदर्शित फिल्म अनुराग से की। इस फिल्म में मौसमी के अपोजिट विनोद मेहरा थे। शक्ति सामंत के निर्देशन में बनी अनुराग में मौसमी चटर्जी ने अंधी लड़की का किरदार निभाया था। करियर की शुरूआत में इस तरह का किरदार किसी भी नयी अभिनेत्री के लिये जोखिम भरा हो सकता था लेकिन मौसमी ने अपने संजीदा अभिनय से दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दिया। इस फिल्म के लिये मौसमी को सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री के फिल्म फेयर पुरस्कार से नामांकित किया गया था। वर्ष 1974 में मौसमी चटर्जी ने रोटी कपड़ा और मकान और बेनाम जैसी सुपरहिट फिल्मों में अभिनय किया। रोटी कपड़ा और मकान के लिये मौसमी चटर्जी को सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेत्री के फिल्म फेयर पुरस्कार का नामांकन मिला। वर्ष 1976 में उनकी एक और सुपरहिट फिल्म सबसे बड़ा रुपया प्रदर्शित हुयी। इस फिल्म में एक बार फिर से मौसमी चटर्जी और विनोद मेहरा की जोड़ी काफी पसंद की गयी। मौसमी चटर्जी के करियर में उनकी जोड़ी सबसे अधिक विनोद मेहरा के साथ पसंद की गयी। इसके अलावा उन्होंने संजीव कुमार, जीतेन्द्र, राजेश खन्ना, शशि कपूर, अमिताभ बच्चन जैसे सुपर सितारों के साथ भी काम किया। उन्होंने हिंदी फिल्मों के अलावा कई बंगला फिल्मों में भी अपने अभिनय का जौहर दिखाया है। उनकी कुछ अन्य उल्लेखनीय फिल्मों में कच्चे धागे, जहरीला इंसान, स्वर्ग नरक, फूल खिले है गुलशन गुलशन, मांग भरो सजना, ज्योति बने ज्वाला, दासी, अंगूर, घर एक मंदिर, घायल, संतान, जल्लाद, करीब, जिंदगी रॉक्स आदि शामिल है।

Share it
Share it
Share it
Top