रावण जलेगा तो राजनीतिक कद बढ़ेगा

रावण जलेगा तो राजनीतिक कद बढ़ेगा

akhi
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि नवरात्र का समय है। रोज नए और अच्छे काम कर रहा हूं। अतः इस बार रावण मैं ही जलाऊंगा।’यह कहते हुए संभवतः अखिलेश भूल गए कि ज्यों-ज्यों रावण के प्रतीक रूप को जलाया जा रहा है वैसे-वैसे बुराई रूपी रावण का कद बढ़ता ही जा रहा है।जहां तक चुनौतियों और विरोध का सवाल है तो वर्तमान में अखिलेश सरकार को विरोधियों की अपेक्षा अपनों से ज्यादा चुनौतियां मिली हैं, यहां तक कि उनके अपने सगे चाचा शिवपाल यादव वो सब कर रहे हैं जो अखिलेश को व्यक्तिगत तौर पर कबूल नहीं था।यही कारण है कि लाख मना करने के बावजूद मुख्तार अंसारी के कौमी एकता दल का विलय सपा में कर दिया गया। समीक्षक जानना चाह रहे हैं कि आखिर ऐसे में अखिलेश किस रावण को जलाने की बात कर रहे हैं क्योंकि यहां तो उसका राजनीतिक कद लगातार बढ़ता जा रहा है ..!
untitled-1-3
[आप अगर देश,प्रदेश के साथ ही अपने आस-पास की ताज़ा खबर से जुड़े रहना चाहते है तो अभी रॉयल बुलेटिन का मोबाइल एप डाउन लोड करे ….गूगल के प्ले-स्टोर में जाइये और टाइप कीजियेroyal bulletin और रॉयल बुलेटिन की एप डाउनलोड कर लीजिये या आप इस लिंक पर क्लिक करके भी एप डाउनलोड कर सकते है …..http://goo.gl/ObsXfO]
औऱ उनकी मौत हो जाती है।

Share it
Share it
Share it
Top