BREAKING NEWS
Search

मेरठ में डीएम के आदेश के बावजूद खोले गए स्कूल

मेरठ। मवाना रोड स्थित ट्रांसलेम एकेडमी व रोहटा क्षेत्र के सलाहपुर गांव के डा. जाकिर पब्किल स्कूल के संचालको के लिए डीएम के आदेश कोई मायने नहीं रखते। शायद यही कारण है कि हाड गलाने वाली ठंड में स्कूल के संचालको द्वारा छोटे छोटे बच्चों की क्लास चलवाई गईं। वहीं मामले के मीडिया में वायरल होने पर स्कूल प्रबंधन बच्चों को बुलवाए जाने की बात तो स्वीकार कर रहा है, लेकिन स्कूल में क्लास चलवाए जाने से इंकार किया है। गौरतलब है कि ठंड के कारण जिलाधिकारी बी. चन्द्रकला ने बुधवार को कक्षा 1 से 8 तक के सभी स्कूल बंद रखने के आदेश दिए थे। इसके बावजूद बुधवार को ट्रांसलेम एकेडमी में प्रशासन के आदेश को ताक पर रखकर छोटे बच्चों की क्लास चलवाई गईं। हाड़ गलाने वाली सर्दी में छोटे-छोटे बच्चे कंपकंपाते हुए स्कूल पहुंचे, लेकिन स्कूल के संचालकों को उन पर रहम नहीं आया।

तृणमूल कांग्रेस का नोटबंदी पर राष्ट्रपति से हस्तक्षेप का अनुरोध

कई अभिभावकों ने डीएम के आदेश का हवाला भी दिया, लेकिन इसका भी कोई फर्क नहीं पड़ा। यदि सर्दी के चलते किसी बच्चे की तबीयत बिगड़ जाए तो ऐसे हालात में जवाबदेही किसकी होगी इसका जवाब स्कूल संचालकों के पास नहीं है।
वहीं रोहटा क्षेत्र के गांव सलाहपूर में डा. जाकिर पब्लिक स्कूल के नाम से स्कूल बुधवार को भी खोला गया। आदेशो का पालन नही किया गया।

मुलायम ने जड़ा रामगोपाल पर पार्टी तोड़ने का आरोप..बोले, अखिलेश रामगोपाल की ही मान रहा है !


सवाल यह है कि डीएम का आदेश रात नौ बजे से पहले ही जारी कर दिया गया था, फिर आखिर स्कूल प्रशासन द्वारा समय से ही अपने बस चालकों को छोटे बच्चों को स्कूल न लाने के निर्देश क्यों नहीं दिए गए। जहां डीएम ने सभी स्कूलों की छुट्टी का आदेश दिया था। लेकिन इसके बावजूद भी कुछ स्कूल खोले गए।