मेरठ: घोसीपुर कांड पर वकीलों का प्रदर्शन, दरोगा सस्पेंड

मेरठ: घोसीपुर कांड पर वकीलों का प्रदर्शन, दरोगा सस्पेंड

मेरठ। खरखौदा थाना क्षेत्र के घोसीपुर में शुक्रवार को दो किशोरों की हत्या में कई आरोपी अब तक फरार हैं। इन आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं होने और बिजली बंबा चौकी इंचार्ज को निलंबित करने की मांग को लेकर वकीलों ने एसएसपी का घेराव किया। उन्होंने एसएसपी के सामने जमकर हंगामा किया। इस पर एसएसपी जे रविंद्र गौड़ ने चौकी इंचार्ज को निलंबित कर आरोपियों की शीघ्र गिरफ्तारी का आश्वासन दिया। सोमवार को मेरठ बार एसोसिएशन के अध्यक्ष गजेन्द्र पाल सिंह के नेतृत्व में दर्जनों वकील एसएसपी कार्यालय पहुंचे। एसएसपी जे रविन्द्र गौड़ से मिलकर वकीलों ने घोसीपुर कांड में फरार चल रहे सात आरोपी उस्मान, अशफाक, गुलफाम, इरफान, फुरकान, इकराम और भूरा की अब तक गिरफ्तारी न होने पर आक्रोश जताया। वकीलों ने आरोप लगाया कि यदि बिजली बंबा चौकी इंचार्ज धर्मेन्द्र कुमार यादव पहले ही उचित कार्रवाई करता तो दो मासूमों की जान न जाती। उन्होंने चौकी इंचार्ज को सस्पेंड किए जाने और आरोपियों की शीघ्र गिरफ्तारी की मांग की।
मतदान से मुजफ्फरनगर ने धो दिए दंगे के दाग, साढे़ तीन साल बाद एक साथ नजर आये मुस्लिम-जाट
एसएसपी ने चौकी इंचार्ज को तत्काल प्रभाव से निलंबित करने का आदेश जारी करते हुए इस कांड में फरार चल रहे अन्य आरोपियों की शीघ्र गिरफ्तारी का आश्वासन दिया है। गौरतलब है कि घोसीपुर निवासी उस्मान उर्फ लंगड़ा ने अपने कई साथियों के साथ बीते शुक्रवार को पुरानी रंजिश के चलते अधिवक्ता मेहराज पर हमला कर दिया था। इस दौरान उस्मान और उसके साथियों ने जमकर कहर बरपाते हुए दर्जनों राउंड फायरिंग की, जिसमें अधिवक्ता सरताज गाजी के भतीजे जुनेद और बिलाल की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि अधिवक्ता मेहराज और मृतक जुनेद के पिता शाहिद सहित दो अन्य व्यक्ति गंभीर रूप से घायल हो गए। इस मामले में कार्रवाई करते हुए पुलिस ने आठ आरोपियों को घटना की रात ही गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था, जबकि मुख्य आरोपी उस्मान उर्फ लंगड़ा सहित सात आरोपी फरार चल रहे हैं।

Share it
Share it
Share it
Top