मेकअप के तरीकों में छुपा है त्वचा का निखार

मेकअप के तरीकों में छुपा है त्वचा का निखार

radhika-apteवैसे तो नैन नक्श, गोरा वर्ण, सलोनी त्वचा ये सब तो प्रकृति की देन हैं पर कुछ चीजें इंसान पर भी निर्भर करती हैं। सुन्दर नैन नक्श वाली महिला यह सोचती रहे कि मैं तो देखने में अच्छी हूं और अपना ध्यान बिल्कुल न रखे तो क्या होगा? धीरे-धीरे प्रकृति भी साथ छोड़ देगी। इसलिए इंसान को भगवान प्रदत्त वस्तुओं को संभाल कर रखना चाहिए और अधिक ध्यान देकर उसमें निखार लाना चाहिए।
इसी प्रकार मेकअप भी एक कला है। यदि उस कला को समझते हुए सौंदर्य प्रसाधनों का प्रयोग किया जाए तो सोने पे सुहागा होता है। सबसे पहले हमें यह जानना चाहिए कि हमारी त्वचा का क्या स्वरूप है?
तैलीय, ड्राई या नार्मल है तो उसी के अनुसार प्रसाधनों को खरीदकर प्रयोग में लाना चाहिए।
यदि आप प्रसाधनों का प्रयोग अंधाधुंध करेंगी तो ये आपकी त्वचा में निखार लाने के स्थान पर आपकी त्वचा को बिगाड़ देंगे। यदि आप अपनी त्वचा के अनुरूप मेकअप करती हैं तो आपकी पर्सनेलिटी और निखर जाएगी और त्वचा भी खिली खिली लगेगी।
यदि आपकी त्वचा ड्राई है तो त्वचा पर माश्चराइजर अधिक लगाएं और ऑयल बेस्ड प्रसाधनों का इस्तेमाल करें ताकि मेकअप के बाद त्वचा रूखी न दिखे।
यदि आपकी त्वचा ऑयली है तो वॉटर बेस्ड प्रसाधनों का प्रयोग करें और दिन में चेहरे को कई बार धोएं।
यदि त्वचा नार्मल है तो वाटर बेस्ड माश्चराइजर लगाएं। नार्मल स्किन पर जो प्रसाधन लगा सकते हैं, वही प्रॉडक्ट प्रयोग में लाएं।
आंखों के लिए
आंखे चेहरे का वे हिस्सा हैं जो बिना कुछ कहे भी सब कुछ बोल देती हैं। इन पर विशेष ध्यान देकर आंखों की सुन्दरता को और बढ़ाया जा सकता है। यदि आंखों की त्वचा ड्राई है तो उस पर हल्की वैसलीन लगाएं। फिर उस पर क्रीम वाला आईशैडो लगायें।
यदि रात्रि में पार्टी में जा रही हैं तो आईशैडो पर शिमर डस्ट लगायें तो आप और अधिक ग्लैमरस लगेंगी। ऑयली त्वचा होने पर पाउडर बेस्ड आईशैडो लगाएं। नार्मल त्वचा पर पहले फाडंडेशन लगाएं, फिर आईशैडो लगाएं और ड्रेस से मैच करता मस्कारा लगाएं। सर्दियों में काजल का प्रयोग करें। गर्मियों में काजल न लगाएं क्योंकि पसीने से फैल जाता है।
गालों के लिए
गर्मियों में गालों पर पाउडर वाले ब्लशर का इस्तेमाल करें। लिक्विड ब्लशर लगाने से पसीना ज्यादा आता है। ड्राई स्किन होने पर क्रीम बेस्ड और पाउडर ब्लशर का इस्तेमाल करें। ऑयली स्किन के लिए गालों पर पाउडर ब्लश लगायें। क्रीम ब्लशर से आयली स्किन और अधिक चिपचिपी लगती है।
होंठों के लिए
सर्दियों में लिपस्टिक लगाने के बाद लिपग्लास लगायें। गर्मियों में लिपग्लास न लगायें। इसके प्रयोग से लिपस्टिक फैल जाती है। नार्मल लिप्स के लिए लिपस्टिक लगाने से 15 मिनट पहले लिप बाम लगायें, फिर लिपस्टिक। ड्राई लिप्स के लिए लिपस्टिक लगाने से थोड़ा पहले लिप बाम लगाएं। लिपस्टिक लगाते हुए प्रयास करें नेचुरल शेप देने की।
ऑयली लिप्स के लिए पहले होंठों पर बर्फ मलें। जब बर्फ का पानी सूख जाए तो लिप्स पर थोड़ा टेलकम पाउडर लगाएं। इसके बाद होंठों के बीच नैपकिन रख लें ताकि पाउडर निकल जाये। उसके बाद लिपस्टिक लगायें। ऐसा करने से लिपस्टिक अधिक समय तक साथ देगी।
चिन के लिए
नार्मल स्किन के लिए पहले हल्का सा माश्चराइजर लगाएं, फिर फाउंडेशन लगाए। ड्राई स्किन के लिए आयल बेस्ड माश्चराइजर लगाने के बाद फाउंडेशन लगाएं। ऑयली स्किन के लिए पहले मैटिफाइर लगाकर फाउंडेशन लगाएं नहीं तो मेकअप करने से पहले चेहरे पर बर्फ मल लें। इससे ऑयलीपन कम हो जाएगा। फिर फाउंडेशन लगाएं। मेकअप अधिक देर तक टिका रहेगा।
नाक के लिए
यदि आपकी स्किन आयली है तो अपने साथ एब्जार्बेंट पेपर रखें ताकि समय समय पर फालतू आयल हट सके। नार्मल नोज़ स्किन पर पाउडर बेस्ड या क्रीम बेस्ड काम्पेक्ट पाउडर लगाएं। ड्राई नोज़ स्किन पर क्रीम बेस्ड काम्पेक्ट पाउडर लगाएं और ऑयली स्किन पर लूज़ पाउडर लगाएं।
कुछ अन्य बातों पर भी ध्यान दें।
गर्मियों में मेकअप करते समय ध्यान दें कि लिक्विड फार्म में प्रसाधनों का प्रयोग न करें। गर्मियों में हल्का मेकअप अच्छा लगता है।
गर्मियों में मेकअप से पहले बर्फ अच्छी तरह लगाएं। इससे मेकअप ज्यादा समय लगा रहता है और पसीना जल्दी नहीं आता।
गर्मियों में फाउंडेशन में कुछ बूंदें ठंडे पानी की मिला कर लगाएं। उसके बाद टेलकम पाउडर लगाएं क्योंकि पाउडर रोम छिद्रों को बंद कर देता है। इससे पसीना जल्दी नहीं आता।
नीतू गुप्ता

Share it
Share it
Share it
Top