मुलायम सिंह की रैली निरस्त, स्थानीय बाशिंदों में मायूसी का आलम

मुलायम सिंह की रैली निरस्त, स्थानीय बाशिंदों में मायूसी का आलम

मैनपुरी। समाजवादी पार्टी (सपा) के गढ माने जाने वाले मैनपुरी में पार्टी संस्थापक मुलायम सिंह यादव की प्रस्तावित रैलियां निरस्त होने से स्थानीय बाशिंदों में मायूसी का आलम है, वहीं कार्यकर्ताओं का जोश बरकरार रखने के लिये प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम ने मोर्चा संभालते हुए यहां डेरा डाल दिया है।
पार्टी सूत्रों ने बताया कि सपा संस्थापक ने अपरिहार्य कारणों से मैनपुरी दौरा निरस्त किया है, हालांकि दबी जुबान से वे इसके पीछे यादव परिवार के बीच मनमुटाव को जिम्मेदार ठहराने से नहीं चूक रहे हैं। मैनपुरी मुलायम सिंह यादव की कर्मस्थली रहा है, और यहां के लोगों का उनसे करीबी और दिल का रिश्ता है। यहां के चुनाव परिणाम भी उनके रुख पर काफी हद तक निर्भर है। सपा के कई नेता बहुजन समाज पार्टी (बसपा) प्रत्याशी के पक्ष में खुलेआम वोट मांग रहे हैं, ऐसे में सपा के प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम को मैनपुरी का प्रभारी बनाया गया है। मैनपुरी की बदली हवा में नरेश उत्तम के सामने कड़ी चुनौतियां हैं। पिछले चुनाव में जब वह चुनाव प्रभारी बने थे, तब मैनपुरी में हालात अलग थे और मुलायम सिंह यादव की एक अपील पर सपा की झोली वोटों से भर जाती थी। मैनपुरी की सभी चार विधानसभा सीटे सपा के कब्जे में है हालांकि भितरघात की संभावना के मद्देनजर कम से कम दो सीटों पर उसका भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) से कडा मुकाबला है। श्री उत्तम ने कहा कि पहले चरण के मतदान में समाजवादियों ने ज्यादा मतदान किया है।
सहारनपुर में अमित शाह बोले, यूपी में सत्ता परिवर्तन के लिए जनता ज्यादा से ज्यादा करे वोट
सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव की देश के महापुरुषों में गिनती है। वे सपा के संरक्षक हैं। 2012 के चुनाव में सपा 224 सीटें जीती थी और इस बार सपा-कांंग्रेस गठबंधन 324 सीटें जीतेगी। श्री उत्तम मतदान होने तक मैनपुरी में ही रहेंगे।

Share it
Share it
Share it
Top