मुनाफावसूली के दबाव में लुढ़का शेयर बाजार

मुनाफावसूली के दबाव में लुढ़का शेयर बाजार

मुंबई।  वाहनों की बिक्री के बेहतर आंकड़ों, चालू वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही में जीडीपी के 7.0 प्रतिशत रहने और अधिकतर विदेशी बाजारों के बढ़त में रहने से दो साल के उच्चतम स्तर पर पहुंचने के बाद बीएसई के 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स कारोबार के अंतिम घंटे में हुई जोरदार मुनाफावूसली से 144.70 अंक टूटकर 28,839.79 अंक पर आ गया।
नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी 46.05 अंक लुढ़ककर 8,899.75 अंक पर बंद हुआ। कारोबार के दौरान बड़ी कंपनियों की तरह मंझोली और छोटी कंपनियों में भी जमकर मुनाफावसूली हुई। बीएसई का मिडकैप 1.41 प्रतिशत अर्थात 191.78 अंक लुढ़ककर 13,377.78 अंक पर और स्माॅलकैप 1.30 फीसदी अर्थात 178.34 अंक गिरकर 13,574.48 अंक पर रहा।
अमेरिकी कांग्रेस में दिये गये अपने पहले भाषण में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के लहजे में नरमी से निवेशकों की धारणा मजबूत हुई जिससे अधिकतर एशियाई बाजारों में तेजी रही। अमेरिकी शेयर बाजार भी बढ़त में रहे और इस महीने अमेरिकी फेडरल रिजर्व द्वारा ब्याज दर बढाये जाने के मजबूत संकेत से दुनिया की अन्य प्रमुख मुद्राओं की तुलना में डॉलर में भी तेजी दर्ज की गयी है। मध्यम आय वर्ग के लिए भारी कर छूट , कॉरपोरेट टैक्स में कटौती, बुनियादी ढांचों पर अधिक खर्च करने और नियमों के सरलीकरण करने के संबंध में दिये गये श्री ट्रंप के भाषण से अमेरिकी शेयर बाजारों में जबरदस्त उछाल आया है और इसका असर अन्य प्रमुख विदेशी शेयर बाजारों पर भी सकारात्मक पड़ा है। ट्रंप के भाषण और घरेलू स्तर पर वाहनों की बिक्री के मजबूत आंकडों के दम पर सेंसेक्स कल की बढ़त को बरकरार रखते हुए आज 132.89 अंक ऊपर 29,117.38 अंक पर खुला।
ऑटो समूह में हुई जबरदस्त लिवाली के बल पर यह बढ़त के साथ जनवरी 2015 के बाद के उच्चतम स्तर 29,145.62 अंक पर पहुंच गया। रिएल्टी सहित अन्य समूहों में हुई मुनाफावूसली के दबाव में यह 28,784.31 अंक के निचले स्तर तक उतर गया।
कारोबार समाप्ति पर यह गत दिवस की तुलना में 0.50 फीसदी लुढ़ककर 28,839.79 अंक पर बंद हुआ। सेंसेक्स में आज मात्र आठ कंपनियां बढ़त में रही जबकि शेष 22 कंपनियों के शेयरों के भाव लुढ़क गये। सेंसेक्स के समान निफ्टी भी 37.05 अंकों की बढ़त लेकर 8982.85 अंक पर खुला। यह कारोबार के दौरान 9000 के आकंड़े के से थोडा पीछे 8,992.50 अंक उच्चतम स्तर तक पहुंचा लेकिन दिन भर हरे निशान में रहने के बाद अंतिम घंटे में यह लाल निशान में 8,879.80 के निचले स्तर तक उतर गया। बाद में इसका हल्का सुधार आया और गत दिवस की तुलना में 0.51 फीसदी लुढ़ककर 8,899.75 अंक पर बंद हुआ। निफ्टी की 51 में मात्र 16 कंपनियों में तेजी रही और शेष 35 गिरावट में रहीं। बीएसई में कुल 3,044 कंपनियों में कारोबार हुआ, जिनमें से 1,930 गिरावट में, 957 बढ़त में और 157 पिछले दिवस के स्तर पर टिके रहे।

Share it
Top