मुनाफावसूली के कारण शिखर से फिसला शेयर बाजार

मुनाफावसूली के कारण शिखर से फिसला शेयर बाजार

मुंबई । धातु तथा बैंकिंग समूहों के साथ दिग्गज कंपनियों में मुनाफा वसूली से आज शेयर बाजार लगातार तीन दिन की तेजी खोते हुये रिकॉर्ड स्तर से फिसल गये। बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 0.34 प्रतिशत यानी 103.61 अंक लुढ़ककर 30,029.74 अंक पर बंद हुआ।
नेशनल स्टॉक एक्सचेंज के निफ्टी में कुछ कम गिरावट रही।
यह 0.10 प्रतिशत यानी 9.70 अंक फिसलकर 9,342.15 अंक पर रहा। एशियाई बाजारों से मिले सकारात्मक संकेतों के बीच सेंसेक्स 8.04 अंक की तेजी में 30,141.39 अंक पर खुला।
लेकिन, ऊँचे भाव पर हुई मुनाफा वसूली से खुलने के कुछ देर बाद ही यह लाल निशान में चला गया। यूरोपीय शेयर बाजार गिरावट में खुले जिससे सेंसेक्स में आखिरी घंटे में तेज गिरावट दर्ज की गयी। कारोबार के दौरान इसका उच्चतम स्तर 30,184.22 अंक और निचला स्तर 29,973.40 अंक दर्ज किया गया।
कारोबार की समाप्ति पर यह गत दिवस की तुलना में 103.61 अंक नीचे 30,029.74 अंक पर रहा। सेंसेक्स की 30 कंपनियों में 21 लाल निशान में और आठ हरे निशान में बंद हुये जबकि भारती एयरटेल के शेयरों के दाम अपरिवर्तित रहे।
ल्युपिन ने सबसे ज्यादा करीब ढाई प्रतिशत का नुकसान उठाया। एक्सिस बैंक के शेयर भी दो फीसदी से ज्यादा लुढ़क गये।
एचडीएफसी बैंक में सवा प्रतिशत से ज्यादा की तेजी रही। इसके अलावा गेल, टाटा मोटर्स, इंफोसिस, विप्रो और सिप्ला के शेयर भी एक प्रतिशत से ज्यादा उछले। निफ्टी भी 7.30 अंक की तेजी के साथ 9,359.15 अंक पर खुला।
कारोबार के दौरान 9,367.15 अंक के दिवस के उच्चतम और 9,322.65 अंक के न्यूनतम स्तर से होता हुआ यह गत दिवस की तुलना में 9.70 अंक की गिरावट में 9,342.15 अंक पर बंद हुआ। इसकी 51 कंपनियों में 28 के शेयर टूट गये।
बीएसई में कुल 3,035 कंपनियों के शेयरों में कारोबार हुआ। इनमें 1,566 के शेयरों के दाम गिर गये जबकि 1,309 के शेयर तेजी में रहे। कुल 160 कंपनियों के शेयर उतार-चढ़ाव से होते हुये अंतत: गत दिवस के स्तर पर ही रहे। छोटी कंपनियों पर भी दबाव रहा जबकि बड़ी कंपनियों में बढ़त दर्ज की गयी। बीएसई का मिडकैप 0.07 प्रतिशत की तेजी के साथ 14,772.45 अंक पर बंद हुआ। स्मॉलकैप 0.02 प्रतिशत टूटकर 15,279.49 अंक पर रहा।

Share it
Top