माइग्रेन से बचाव संभव..चाकलेट, ज्यादा मीठा, पनीर और ठंडी चीजें न लें !

माइग्रेन से बचाव संभव..चाकलेट, ज्यादा मीठा, पनीर और ठंडी चीजें न लें !

 सिरदर्द एक बहुत ही आम रोग है। हर कोई इस रोग का कभी न कभी शिकार होता है। यही कारण है कि बहुत से लोग इस रोग को हल्के तौर से लेते हैं लेकिन सिर के दर्द को इतना भी हल्के तौर से नहीं लेना चाहिए।
डाक्टरों का कहना है कि सिरदर्द की कई वजहें होती हैं। सिरदर्द कभी कभी भूख लगने से, थकावट से या पानी की कमी से भी हो सकता है। अगर सिरदर्द के ये कारण हैं तो उसी वक्त या तो आपको कुछ खा लेना चाहिए या फिर कभी कभी सो जाने से भी बहुत आराम मिलता है।
अगर आप कम रोशनी में पढ़ते हैं या कम्प्यूटर पर कई घण्टे काम करते हैं तो मुमकिन है कि आप सिरदर्द के शिकार जरूर होंगे। इस कारण आपको आंखों के आसपास के हिस्से में, कनपटी में और नाक पर काफी दर्द महसूस होता है। कई लोगों को खाने की खुशबू से भी सिरदर्द शुरू हो जाती है। खास तौर से सुगन्ध वाले खाने बनाने में या फिर तन पर लगाने वाले इत्र से भी अचानक सिरदर्द हो सकता है।
सर्दियों में ही हमारी त्वचा अधिक रूखी होती है..बॉय बॉय करें रूखी त्वचा को..!

कभी कभी ज्यादा तनाव में आप सिरदर्द का शिकार हो सकते हैं। तनाव के कारण सिरदर्द प्राय: औरतों को होता है और मासिक धर्म के समय भी कई औरतों को सिरदर्द की शिकायत होती हैं।
सब सिरदर्द जरूरी नहीं कि माइग्रेन हों। कोई दवाई लेने से पहले यह ध्यान रखें कि आप को किस प्रकार का सिरदर्द है। अगर आपको माइग्रेन है तो इसके कई लक्षण हैं जो आपको बताते हैं कि आपको किस प्रकार का सिरदर्द है। एक आम सिरदर्द कभी भी हो सकता है लेकिन माइग्रेन आमतौर पर एक निर्धारित समय पर होता है जैसे कि मासिक धर्म से एक या दो दिन पहले।
आम सिरदर्द के दौरान आपको देखने में किसी प्रकार की रूकावट नहीं होती लेकिन माइग्रेन में आपको चमकदार रोशनियां दिख सकती हैं। ऐसा लगेगा कि अचानक बिजली की कई रोशनी चमक रही हैं और सिर में एक तरफ सुई की नोंक जैसा दर्द उठता है।
कभी-कभी ज्यादा सिरदर्द होने से आपको उल्टी जैसा अनुभव होता है लेकिन माइग्रेन होने से आपको उल्टी भी आती है।
किसी भी खाने में सिरदर्द का कोई ताल्लुक नहीं है लेकिन माइग्रेन का अवश्य है। कभी कभी पनीर या चॉकलेट खाने से भी माइग्रेन हो सकता है।
कहानी- शीतकाल का स्वर्ग-कोवलम सागर तट

आम सिरदर्द गोली खाने से कम हो जाता है और कुछ देर में खत्म हो जाता है लेकिन माइग्रेन में आपको तीन या चार दिनों तक दर्द सहना पड़ता है। आजकल खास माइग्रेन व सिरदर्द के लिये दवाइयां हैं जो माइग्रेन को खत्म भले ही न करें, कुछ आराम तो देती हैं लेकिन दवाइयों से ज्यादा आपको और चीजों से फायदा होगा।
माइग्रेन होने पर रोशनी बरदाश्त नहीं होती तो आप कमरे में अंधेरा कर दें और हल्का सा संगीत लगाकर सोने की कोशिश करें। इस दर्द में आवाज भी सहन नहीं होती, अत: आप कमरा बिलकुल बंद कर दें।
अपने खाने पीने का भी ध्यान रखें। चाकलेट, ज्यादा मीठा, पनीर और ठंडी चीजें न लें। आपको इस समय हलका खाना, गुनगुना दूध या सूप पीना चाहिए। कई लोगों को इस समय दूध भी हजम नहीं होता तो आप केवल पुदीना या तुलसी डालकर हल्की सी चाय पत्ती डालकर बिना दूध के चाय ले सकते हैं। इन बात बातों का ध्यान रखने से जरूर आपको माइग्रेन के दर्द से आराम मिलेगा।
– अंबिका 

Share it
Top