महामारी बनता जा रहा मधुमेह..खानपान और व्यायाम न करना मुख्य कारण

महामारी बनता जा रहा मधुमेह..खानपान और व्यायाम न करना मुख्य कारण

 Diabetes-Symptoms-in-Hindi
नई दिल्ली । देश में तेजी से मधुमेह का खतरा बढ़ता जा रहा है। आधुनिक जीवनशैली के साथ ही खानपान और व्यायाम न करने के कारण यह बनता जा रहा है। इसी का परिणाम है कि मधुमेह ने महामारी का रूप ले लिया है। हाल ही के आंकड़ों के मुताबिक, इंडिया में डायबिटीज (मधुमेह) से होने वाली मौतों की संख्या पिछले 11 सालों में अब तक 50 फीसदी बढ़ी हैं। ग्लोबल बर्डन ऑफ डिजिज (जीबीडी) के आंकड़ों के मुताबिक, ये आंकड़ा देश में मौत का सातवां सबसे बड़ा कारण है, जो कि 2005 में 11 वां सबसे बड़ा कारण था। इतना ही नहीं, भारत में दिल की बीमारी सबसे बड़ा मौत का कारण बना हुआ है। इसके बाद सांस की बीमारी, ब्रेन हेमरेज, सांस की नली में इंफेक्शन, लूज मोशन (दस्त) और टी.बी का नंबर है। जीबीडी की रिपोर्ट के मुताबिक, साल 2015 में टी.बी से कुल 346000 लाख लोगों की मौत हुई, जो सालभर में हुई कुल मौतों का 3.3 फीसदी है। इसमें साल 2009 से 2.7 फीसदी का इजाफा हुआ है। मधुमेह से हरेक एक लाख की आबादी में करीब 26 लोगों की मौत हो जाती है। मधुमेह विकलांगता का भी प्रमुख कारण है और २.४ फीसदी लोग इसके कारण ही विकलांग हो जाते हैं। भारत में कुल 6.91  करोड़ लोग मधुमेह के शिकार हैं जोकि दुनिया में चीन के बाद दूसरा नंबर है। चीन में कुल 10.9 करोड़ लोग डायबिटीज से पीड़ित हैं। अंतर्राष्ट्रीय डायबिटीज फेडरेशन के डायबिटीज एटलस के मुताबिक, भारत में डायबिटीज से पीड़ित 3.6 करोड़ लोगों की जांच तक नहीं हुई है। देश के 20 से 79 साल की उम्र की आबादी का करीब 9 फीसदी डायबिटीज से ग्रसित हैं।
प्रधानमंत्री से माफी मांगने को नहीं कहा: अनुराग

ये आंकड़े चिंताजनक है, क्योंकि डायबिटीज एक क्रॉनिक डिजीज है, जो न केवल पैंक्रियाज की इंसुलिन निर्माण करने की क्षमता को प्रभावित करता है, बल्कि इसके कारण दिल के रोग, स्ट्रोक, किडनी फेल्योर, अंधापन और न्यूरोपैथी या नर्वस सिस्टम डैमेज होती है जिसे पांव काटने तक की नौबत आ जाती ह। अन्य देशों की तरह जहां ज्यादातर 60 साल के ऊपर के लोग ही डायबिटीज के शिकार होते हैं। भारत में यह40 से 59 साल की उम्र के लोगों में ज्यादा पाया जाता है।आप ये ख़बरें और ज्यादा पढना चाहते है तो दैनिक रॉयल unnamed
बुलेटिन की मोबाइलएप को डाउनलोड कीजिये….गूगल के प्लेस्टोर में जाकर
royal bulletin
टाइप करे और एप डाउनलोड करे..आप हमारी हिंदी न्यूज़ वेबसाइट
www.royalbulletin.com
और अंग्रेजी news वेबसाइटwww.royalbulletin.in को भी लाइक करे..कृपया एप और साईट के बारे में info @royalbulletin.com पर अपने बहुमूल्य सुझाव भी दें…  

Share it
Share it
Share it
Top