भोजन को पौष्टिक बनाने के लिये…करें कम नमक का प्रयोग

भोजन को पौष्टिक बनाने के लिये…करें कम नमक का प्रयोग

 जैसे भोजन को स्वादिष्ट बनाने के लिए हम मसाले, तेल, मक्खन, प्याज, लहसुन, टमाटर का प्रयोग कर कभी उन्हें तल कर, भून कर या स्टीम कर बनाते हैं। उसी प्रकार भोजन को अधिक पौष्टिक भी बनाया जा सकता है। कम नमक, कम चीनी व कम तेल का प्रयोग कर अन्य कुछ चीजों का प्रयोग कर उसे अधिक पौष्टिक बना सकते हैं। पौष्टिक आहार हमें अच्छा स्वास्थ्य और लंबी आयु प्रदान करता है।
अगर भोजन बनाते समय सही चीजों का प्रयोग करें तो उनकी पौष्टिकता बढ़ जाएगी और गैर जरूरी चीजें डालकर स्वाद के चक्कर में रहें तो उनकी पौष्टिकता कम हो जाएगी।
प्रयोग करें लो-फैट पनीर और चीज

आप कुछ भी बना रही हैं उसमें अगर पनीर का प्रयोग करती हैं जो फुल क्रीम दूध से बना है तो उसके स्थान पर लो फैट पनीर का प्रयोग करें। पनीर की सब्जी में भी लो फैट पनीर का प्रयोग करें। अगर पिज्जा बाजार से मंगा रही हैं तो एक्स्ट्रा चीज के लिए आर्डर न करें। घर पर बना रही हैं तो सब्जियां अधिक चीज कम डालें। वैसे दुग्ध उत्पाद में कैल्शियम की मात्रा काफी होती है पर लो फैट दुग्ध उत्पाद का ही सेवन करें।
100 कृषि विज्ञान केन्द्रों में किसानों का होगा कौशल विकास :राधामोहन

कम करें नमक का प्रयोग
हम भोजन को, परांठे को और स्वादिष्ट बनाने के लिए मक्खन का प्रयोग करते हैं जबकि सब्जी व परांठे में पहले से भी नमक मिला होता है। यह नमक हम अतिरिक्त लेते हैं जो हमारे स्वास्थ्य हेतु नुकसानदायक होता है। नमक के साथ एक्स्ट्रा फैट भी हमारे शरीर में चले जाते हैं। अपने भोजन को अधिक सेहतमंद बनाने के लिए भोजन में कुछ मसाले प्रयोग कर सकती हैं जैसे धनिया, सौंफ, करी पत्ता, लहसुन आदि। इनके प्रयोग से भोजन की महक भी अच्छी होगी और पौष्टिकता भी अधिक होगी। सब्जी, दाल बनने के बाद नींबू का रस मिलाना भी सब्जी, दाल को अधिक पौष्टिकता प्रदान करता है।
ज्यादा देर तक न पकाएं खाना…स्वास्थ्य के लिए लाभदायक है अधपका भोजन

खाना बनाते समय जैतून का तेल प्रयोग में लाएं:-

रिफांइड तेलों को जैसे मक्का, सोयाबीन, कनोला तेलों को बहुत अधिक रिफाइन किया जाता है जिनसे बनाया गया भोजन सेहतमंद नहीं होता क्योंकि रिफाइंड तेलों को जब कुकिंग के लिए गर्म किया जाता है तो यह सेहत को नुकसान पहुंचाते हैं। इससे बेहतर जैतून का तेल, सरसों और नारियल का तेल होता है जो गर्म करने पर भी सेहत के लिए ठीक रहते हैं। इसलिए रिफाइंड तेल का प्रयोग कम से कम करें। उसके स्थान पर जैतून, सरसों और नारियल तेल का प्रयोग करें।
चीनी कम से कम लें:-
चीनी का सेवन कम से कम करने की आदत आपके स्वास्थ्य हेतु लाभप्रद है। हमारी स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं के पीछे चीनी की अधिकता का सेवन बहुत बड़ा कारण है। चीनी का अधिक प्रयोग हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता को कम करता है। किडनी डेमेज की समस्या को बढ़ाता है। बढ़ती उम्र का प्रभाव चेहरे पर जल्दी दिखने लगता है और शरीर में मिनरल्स के संतुलन को भी बिगाड़ता है।
– नीतू गुप्ता

Share it
Share it
Share it
Top