BREAKING NEWS
Search

भारत रत्न बिस्मिल्लाह खां की शहनाईयां चोरी करने वाले भेजे गये जेल

वाराणसी। भारत रत्न मरहूम बिस्मिल्लाह खां की शहनाईयां चोरी के मामले में कल गिरफ्तार उनके पोते नजरे हसन उर्फ शादाब तथा ज्वैलर शंकर लाल सेठ और उसके बेटे सुजीत कुमार को आज जेल भेज दिया गया।
पुलिस सूत्रों ने यहां बताया कि इससे पहले शादाब की निशानदेही पर उस्तदात की एक और बेसकीमती शहनाई वाराणसी के दालमंडी के बिखा शाह लेन स्थित उनके पुस्तैनी मकान से बरामद कर लिया गया। उन्होंने बताया कि शादाब ने पुलिस की पूछताछ के दौरान कुबूला किया कि उसने तीन शहनाईयां बेची थी, जबकि एक पुश्तैनी मकान में छुपाकर रख दी थी, जिसे वह बाद में बेचना चाहता था। उसने बताया कि उसने एक-एक कर शहनाईयां चोरी की तथा उसे ज्वैलर के हाथों बेचा। उत्तर प्रदेश की स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) ने कल तीनों आरोपियों की गिरफ्तार कर उनके पास से लकड़ी की एक शहनाई बरामद की थी। इसके अलावा तीन शहनाईयों को गलाकर तैयार की गई एक किलो 66 ग्राम चांदी की बटिया, शहनाई की बिक्री से अर्जित 4200 रूपये नगद और एक मोबाइल फोन बरामद किया था। आरोपी शादाब ने स्वीकार किया था कि शहनाई के बादशाह बिस्मिल्लाह खां को पूर्व प्रधानमंत्री नरङ्क्षसहा राव, बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री कपिल सिब्ल द्वारा उपहार में दी गई चांदी की बेसकीमती शहनाईयां चोरी की थी।

आगरा में सांप्रदायिक माहौल बिगाड़ने का प्रयास, पुलिस फोर्स तैनात

उन्होंने पुलिस को बताया था कि शहनाईयों की चोरी अपना कर्ज चुकाने के लिए की थी और उसे मात्र 17000 रुपये में बेच दी थी। उस्ताद बिस्मिल्ला खान चांदी के पत्तर लगी लड़की की शहनाई मुहर्रम की 8वीं एवं 10वीं तारीख को विशेष रूप से बजाया करते थे। राष्ट्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय महत्व की भारत रत्न की शहनाईयों की चोरी और इस मामले में परिवार के सदस्य के शामिल होने की बात सामने आने के बाद उस्ताद का परिवार एवं रिश्तेदार स्तब्ध है।