भारत में ‘किस’ का चलन 3500 साल पुराना

भारत में ‘किस’ का चलन 3500 साल पुराना

kiss-1नई दिल्ली । इस अध्ययन में शामिल एक शोधकर्ता प्रोफेसर विलियम जानकोवायक के अनुसार किस करना पश्चिमी सभ्यता की देन है जो एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी में जाती रही, जबकि ब्रिटेन की यूनिर्विसटी ऑफ ऑक्सफोर्ड के प्रोफेसर राफेल वलोडारस्की कहते हैं कि किस करना हाल-फिलहाल का चलन है। जबकि हिंदु संस्कृति में किस की क्रिया का सबसे पुराना उदाहरण हिंदुओं की वैदिक संस्कृति में मिलता है जो करीब 3500 साल पुराना है। ऐसे में ये भी कह सकते हैं कि किस करने का अंदाज शायद हिंदुस्तान से पूरी दुनिया में गया हो। मिस्र की पुरानी संस्कृति में लोग किस करने के बजाय आलिंगन कर एक-दूसरे के करीब आते थे और अपना प्यार जताते थे। ऐसे में सवाल पैदा होता है कि किस करना एक प्राकृतिक प्रक्रिया है या आधुनिक इंसानों ने इसकी खोज की है। मानव के बुजुर्ग चिम्पांजी को माना जाता है। जर्जिया, अटलांटा स्थित एमरी यूनिर्विसटी के जीव विज्ञानी फ्रांस डि वॉल के अनुसार चिम्पांजी एक दूसरे से लड़ने-झगड़ने के बाद एक दूसरे को किस करते हैं या एक दूसरे को हग करते हैं।
इटावा सफारी में जेसिका शेरनी ने दिया दो शावकों को जन्म ,सीएम समेत सफारी अफसर हुए गदगद
लेकिन चिम्पांजियों में किया गया ये किस रोमांस का हिस्सा नहीं होता था। वहीं चिम्पांजियों की एक प्रजाति बोनोवो में चिम्पाजी कई मौकों पर एक-दूसरे को किस करते हैं और किस करते वक्त जीभ का इस्तेमाल करते हैं। लेकिन उनमें भी किस की प्रवृति का रोमांस से कोई लेना-देना नहीं है। सवाल अब भी जस का तस है जिसका जवाब 2013 में वलोडारस्की के अध्ययन में मिलता है। इस अध्ययन में किस करने की प्रवृति पर विस्तार से अध्ययन किया गया। वलोडारस्की ने सैकड़ों लोगों से ये पूछा कि वे जब एक दूसरे को किस करते हैं तो क्या खास महसूस करते हैं? इसमें पता चला कि शरीर की सुगंध से लोग एक दूसरे के प्रति आर्किषत होते हैं और किस अपने आप हो जाता है। वलोडारस्की कहते हैं कि हममें स्तनधारियों के सारे गुण हैं, इसमें समय के साथ हमने कुछ चीजें जोड़ भी ली हैं। ऐसे में हम कह सकते हैं कि किस लोगों को एक-दूसरे के करीब लाता है।आप अगर देश,प्रदेश के साथ ही अपने आस-पास की ताज़ा खबर से जुड़े रहना चाहते है तो अभी रॉयल बुलेटिन का मोबाइल एप डाउन लोड करे ….गूगल के प्ले-स्टोर में जाइये और टाइप कीजिये royal bulletin और रॉयल बुलेटिन की एप डाउनलोड कर लीजिये या आप इस लिंक पर क्लिक करके भी एप डाउनलोड कर सकते है ….. http://goo.gl/ObsXfO  

Share it
Share it
Share it
Top