भारत बार्डर-गावस्कर ट्राफी से चंद कदम दूर

भारत बार्डर-गावस्कर ट्राफी से चंद कदम दूर

धर्मशाला। भारत और आस्ट्रेलिया के बीच चौथे क्रिकेट टेस्ट का तीसरा दिन सोमवार को बेहद ही रोमांचक रहा। आस्ट्रेलिया की दूसरी पारी को सस्ते में निपटाने के बाद 106 रन के आसान लक्ष्य का पीछा कर रही मेजबान टीम अब जीत से मात्र 87 रन दूर है जबकि उसके सभी 10 विकेट सुरक्षित हैं।
सीरीज के चौथे और निर्णायक टेस्ट के तीसरे दिन का खेल समाप्त होने तक भारत ने अपनी दूसरी पारी में छह ओवर में बिना किसी विकेट नुकसान के 19 रन बना लिये हैं। बल्लेबाज लोकेश राहुल 18 गेंदों में तीन चौके लगाकर 13 रन और मुरली विजय 18 गेंदों में छह रन बनाकर क्रीज पर हैं। भारत को अब जीत के लिये 87 रन की और जरूरत है।
इससे पहले सुबह आस्ट्रेलिया ने भारत की पहली पारी को 118.1 ओवर में 332 रन पर समेट दिया था जिससे भारत को 32 रन की महत्वपूर्ण बढ़त हासिल हुई जो बाद में काफी अहम साबित भी हुई। लंच के बाद शुरू हुई आस्ट्रेलिया की दूसरी पारी को फिर मेजबान टीम ने चायकाल के कुछ देर बाद 53.5 ओवर में 137 रन के मामूली स्कोर पर ढेर कर दिया। इसकी बदौलत आस्ट्रेलिया को मात्र 105 रन की बढ़त हासिल हुई और उसने भारत के सामने जीत के लिये 106 रन का आसान लक्ष्य रख दिया।
सुबह खेल की शुरूआत में भारत ने अपनी पहली पारी को कल के 248 रन पर छह विकेट से आगे बढ़ाया और निचले क्रम में जडेजा तथा साहा ने सातवें विकेट के लिये 96 रन की साझेदारी कर भारत को 300 के पार पहुंचाया तथा 32 रन की बढ़त भी दिला दी।
लंच के बाद आस्ट्रेलिया की दूसरी पारी शुरू हुई लेकिन उसकी शुरूआत ही खराब रही और आस्ट्रेलिया ने चायकाल तक 92 रन पर अपने पांच विकेट गंवाये और चायकाल के कुछ देर बाद 31 रन के अंतर पर उसके बाकी के पांच विकेट भी गिर गये। वह मुश्किल से ही 105 रन की बढ़त ही हासिल कर सका और पूरी टीम 137 रन पर ढेर हो गयी। मेहमान टीम की दूसरी पारी में अकेले ग्लेन मैक्सवेल की 45 रन की पारी ही सर्वाधिक रही जबकि मैथ्यू वेड 25 रन पर नाबाद लौटे। आस्ट्रेलियाई पारी को सस्ते में निपटाने का श्रेय भारतीय गेंदबाजों को जाता है जिनमें स्पिनरों ने ही छह विकेट निकाले। लेफ्ट आर्म स्पिनर जडेजा ने 24 रन पर तीन विकेट और ऑफ स्पिनर अश्विन ने 29 रन पर तीन विकेट लिये। तेज गेंदबाज उमेश यादव ने 29 रन देकर तीन विकेट हासिल किये। भुवनेश्वर कुमार ने 27 रन पर एक विकेट निकाला। आस्ट्रेलिया के लिये भारत को पहली पारी में 32 रन की बढ़त देना भी अंतत: काफी महंगा पड़ गया और उसे दूसरी पारी में एक एक रन के लिये जूझना पड़ गया। मेहमान टीम की शुरूआत काफी खराब रही और इस सीरीज में लगातार खराब फार्म से जूझ रहे डेविड वार्नर यादव के हाथों चौथे ही ओवर में मात्र छह रन बनाकर पवेलियन लौट गये। इसके बाद अन्य तेज गेंदबाज भुवनेश्वर ने कप्तान स्टीवन स्मिथ को बोल्ड कर दूसरा विकेट भी सस्ते में गिरा दिया।
स्मिथ 15 गेंदों में तीन चौके लगाकर 17 रन ही बना पाये। आस्ट्रेलियाई कप्तान भुवनेश्वर की शॉर्ट बॉल पर आउट होने के साथ ही इस सीरीज में अपने 500 रन पूरे करने से मात्र एक रन भी दूर रह गये। इसी स्कोर पर आस्ट्रेलिया को तीसरा झटका सलामी बल्लेबाज मैट रेनशॉ(आठ) के रूप में लगा जब यादव ने उन्हें भी विकेटकीपर रिद्धिमान साहा के हाथों आउट करा दिया।
6 अप्रैल तक सम्पत्ति का हिसाब नहीं देने वाले अधिकारियों पर एक्शन लेगी योगी सरकार..!
पीटर हैंड्सकोंब 18 रन बनाकर अश्विन की गेंद पर अङ्क्षजक्या रहाणे को कैच दे बैठे और आफ स्पिनर ने इस मैच में अपना दूसरा विकेट झटका। हैंड्सकोंब ने 46 गेंदों में तीन चौके लगाये। उन्होंने ग्लेन मैक्सवेल के साथ चौथे विकेट के लिये 56 रन की एकमात्र अहम अर्धशतकीय साझेदारी की। मैक्सवेल ने 60 गेंदों में छह चौके और एक छक्का लगाकर 45 रन बनाये जो दूसरी पारी में किसी बल्लेबाज का सर्वाधिक स्कोर रहा।
शॉन मार्श एक ही रन बनाकर जडेजा की गेंद पर चेतेश्वर पुजारा को कैच दे बैठे और भारत ने 92 रन पर आस्ट्रेलिया के पांच विकेट निकाल लिये। चाय के बाद मैक्सवेल अपने अर्धशतक को पूरा करने से मात्र पांच रन दूर रह गये और अश्विन ने उन्हें पगबाधा कर 106 रन पर मेहमान टीम को छटा झटका दे दिया।
आस्ट्रेलिया के लगातार विकेट गिरते रहे और उसके आखिरी तीनों बल्लेबाज स्टीव ओ कीफे, नाथन लियोन तथा जोश हेजलवुड सभी शून्य पर आउट होकर पवेलियन लौटे। अश्विन ने हेजलवुड को पगबाधा कर आस्ट्रेलिया की पारी को 137 रन पर समेट दिया। मैथ्यू वेड 90 गेंदों में दो चौके लगाकर 25 रन पर नाबाद लौटे।
तीसरे दिन के रोमांचक मुकाबले में भारत ने बेहतरीन गेंदबाजी से पहले जबरदस्त बल्लेबाजी का हरफनमौला खेल दिखाया। सुबह की शुरूआत भारत ने अपने कल के 248 रन पर छह विकेट से आगे की थी और सुबह के सत्र में उसने अपने स्कोर में 84 रन का इजाफा किया और लंच तक उसकी पहली पारी 118.1 ओवर में 332 के स्कोर पर सिमटी जिससे उसे 32 रन की बढ़त मिली।
साहा ने 10 रन और जडेजा ने 16 रन से अपनी कल की पारियों को आगे बढ़ाते हुये 30 ओवर में सातवें विकेट के लिये 96 रन की अहम साझेदारी की। जडेजा निचले क्रम पर अहम साबित हुये और उन्होंने 95 गेंदों में चार चौके और चार छक्के लगाकर 63 रन बनाये। साहा ने 102 गेंदों पर दो चौके लगाकर 31 रन का योगदान दिया। जडेजा के आउट होने के बाद भारत ने जल्दी विकेट गंवाये और मात्र 15 रन के अंतर पर उसके चार विकेट गिर गये।
भारतीय टीम ने ओपनिंग बल्लेबाजों लोकेश राहुल(60), चेतेश्वर पुजारा(57) और अजिंक्या रहाणे (46 रन) के संतोषजनक प्रदर्शन के बाद मैच के दूसरे दिन छह विकेट पर 248 रन जोड़ लिये थे और आठवें नंबर पर बल्लेबाजी कर रहे जडेजा ने साहा के साथ मिलकर सुबह अर्धशतकीय साझेदारी कर भारत की उम्मीदों को बांधे रखा। जडेजा ने 83 गेंदों में अपने 50 रन पूरे कर टेस्ट में सातवां अर्धशतक बनाया।
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गोमती रिवर फ्रंट का किया निरीक्षण, अव्यवस्था देख अधिकारियों पर भड़के
इसी के साथ आईसीसी टेस्ट रैंकिंग में दुनिया के नंबर एक गेंदबाज जडेजा तीसरे ऐसे ऑलरांउडर भी बन गये हैं जिन्होंने एक सत्र में 50 से अधिक विकेट निकालने के अलावा 500 से अधिक का स्कोर भी बनाया है। जडेजा ने मौजूदा 2016-17 सत्र में यह उपलब्धि दर्ज की है और उनसे इस मामले में कपिल देव(1979-80) और मिशेल जानसन (2008-09) ही आगे हैं।
हालांकि तेज गेंदबाज पैट कमिंस ने सुबह करीब 21 ओवर के खेल के बाद जाकर आस्ट्रेलिया को पहली और अहम सफलता दिलाई जब कई शॉर्ट गेंद के बाद उनकी एक फूल लेंथ गेंद को समझने में जडेजा गलती कर बैठे और गेंद बल्ले का अंदरूनी किनारा लेते हुये सीधे स्टम्प्स में जा घुसी। भारत का सातवां विकेट 317 के स्कोर पर गिरा। भुवनेश्वर कुमार खाता खोले बिना ही स्टीव ओ कीफे की गेंद पर कप्तान स्टीवन स्मिथ को कैच दे बैठे।
इसके बाद 318 के इसी स्कोर पर साहा ने भी अपना विकेट दे दिया और कमिंस ने ही उन्हें स्मिथ के हाथों कैच कराकर भारत का नौवां विकेट हासिल कर लिया। कुलदीप यादव ने 17 गेंदों में एक चौका लगाकर सात रन बनाये और लियोन ने उन्हें जोश हेजलवुड के हाथों लपकवाकर भारत की पारी समेट दी और साथ ही पारी में अपने पांच विकेट भी पूरे कर लिये। उमेश यादव दो रन पर नाबाद लौटे।
कमिंस ने 94 रन पर तीन विकेट निकाले जबकि लियोन ने 92 रन देकर भारत के सर्वाधिक पांच विकेट हासिल किये। लियोन के लिये यह नौवां मौका है जब टेस्ट की एक पारी में उन्होंने पांच विकेट निकाले हैं। हेजलवुल और कीफे को एक एक विकेट मिला।

Share it
Top