भारत दिशा देने वाला देश बना, निवेशकों का खींचा ध्यान: जेटली

भारत दिशा देने वाला देश बना, निवेशकों का खींचा ध्यान: जेटली

 भारत दिशा देने वाला देश बना, निवेशकों का खींचा ध्यान: जेटलीबेंगलुरु -केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने आज कहा कि भारत एक दिशा देने वाला देश बना है और विश्व भर से निवेशकों का ध्यान यहां आकृष्ट हुआ है । श्री जेटली केंद्र सरकार के औद्योगिक नीति एवं प्रोन्नति विभाग के सहयोग से यहां आयोजित ‘मेक इंडिया कांफ्रेंस इन कर्नाटक ’ के उद्घाटन कार्यक्रम में कहा कि भारत वैश्विक स्तर पर निवेशकों को अपनी ओर अाकर्षित करने के साथ ही अब उस मुकाम पर पहुंच गया है , जहां से वह अन्य देशों को एक दिशा दे सकता है। उन्होंने कहा कि सात प्रतिशत की विकास दर से ही संतुष्ट नहीं हुआ जा सकता और इसे और बढ़ाने की जरुरत है । वैश्विक मंदी के बावजूद देश आगे बढ़ा है और इस गति को बरकरार रखना जरूरी है । वित्त मंत्री ने जोर दिया कि वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) को इस वर्ष के मध्य तक लागू कर दिया जायेगा, जिससे न केवल राज्यों को आगे बढ़ने का मौका मिलेगा बल्कि देश की अर्थव्यवस्था में भी बढोतरी होगी। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र्र मोदी की अगुवाई वाली राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन सरकार कृषि के साथ ही ग्रामीण इलाकों के विकास के काम काे प्राथमिकता दे रही है।
उप्र में दूसरे चरण का चुनाव 15 फरवरी को..यहां मुस्लिम मतदाताओं की भूमिका महत्वपूर्ण!
उन्होंने कहा कि ढांचागत विकास के लिये तीन लाख 96 हजार करोड़ रुपये का बजट प्रावधान किया गया है, जो निवेशकों को आकर्षित करने के साथ ही औद्याेगिक वृद्धि का मार्ग प्रशस्त करेगा । इसके अलावा सोशल सेक्टर को भी प्राथमिकता के दायरे में रखा गया है । जेटली ने कहा कि कर्नाटक ने देश के विकसित राज्य के रुप में अपनी पहचान बनाई है और उसे अग्रणी राज्य के रुप में शुमार होने के लिये राष्ट्रीय विकास दर में दो से तीन प्रतिशत की बढ़ोतरी करनी चाहिये । उन्होंने कहा कि कर्नाटक ऐसा पहला राज्य है जिसकी देश में शिक्षा हब के रूप में छवि बनी है। राज्य ने बहुत से मानव संसाधन विकसित किये हैं तथा सूचना प्रौद्यागिकी के जरिये जहां विश्व का ध्यान आकर्षित किया है , वहीं सेवा और मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर में यह आगे बढ़ रहा है । 

Share it
Top