भाजपा को मिला गरीबों का साथ

भाजपा को मिला गरीबों का साथ

bjp
गुजरात और महाराष्ट्र के नगरीय चुनाव के नतीजों से भाजपा काफी उत्साहित हो गई है। नोटबंदी के बाद गरीबों में मोदी और भाजपा के प्रति विश्वास बढ़ा है। गरीबों को लग रहा है कि मोदी ने काले धन वाले बड़े लोगों का धन छीन लिया है। अब यह धन उसके खातों में जमा होगा। लोगों को लाइनों में खड़ा होने का गुस्सा नहीं है। उसे खुशी है कि मोदी जी ने बड़े बड़े लोगों का धन छुड़ा लिया है। भाजपा की गरीबों को आकर्षित करने की रणनीति सफल रही। भाजपा के रणनीतिकारों का मानना है कि उप्र और पंजाब चुनाव में जातीय समीकरण नहीं वरन नोटबंदी के कारण गरीब का साथ भाजपा को मिलना तय हो गया है।-आयकर की जगह लेगा ‘खर्च कर’
केंद्र सरकार आयकर को समाप्त करने गंभीरता से विचार कर रही है। सरकार अब खर्च कर लगाने के लिए हिसाब-किताब कर रही है। केंद्र सरकार ने भारत में सभी लेन-देन पर यदि 2 फीसदी भी कर लगाया जाएगा तो इससे भारी कमाई होने की जानकारी वित्तीय विशेषज्ञों ने दी है।
सूत्रों की मानें तो सरकार वर्ष 2017-18 के बजट में ‘आयकर’ समाप्त कर ‘खर्च कर’ की घोषणा कर सकती है। इसमें सभी लेन-देन पर आम आदमी से लेकर खास आदमी तक टैक्स के दायरे में आ जाएंगे। विशेषज्ञों के अनुसार आयकर की तुलना में सरकार की आय 10 गुना ज्यादा बढ़ने की बात कही जा रही है। खर्च कर मल्टीपल होगा। हर लेन-देन पर सरकार को पैसा मिलेगा। वित्त मंत्रालय ने इसके लिए आंकड़े जुटाना शुरू कर दिये हैं।
अखिलेश बोले, दोबारा सरकार में आये तो…. दूर करेंगे पीसीएस अधिकारियों के दुख दर्द
-जनधन खातों से टैक्स वसूलेगी सरकार
सरकार ने जन-धन खातों में जमा राशि को 10 हजार रुपये तक निकालने की छूट दी है। आयकर विभाग ने उन जन-धन खातों की जानकारी मांगी है। जिसमें 50 हजार से अधिक की रकम जमा की गई है। आयकर विभाग का मानना है कि जन-धन खातों में जमा रकम ब्लैक मनी है। जिन खातों में कभी पैसा जमा नहीं हुआ। एकाएक हजारों, लाखों रुपया जमा होना यह प्रमाणित है कि काले धन को सफेद बनाने के लिए यह राशि जमा हुई है।
दिसंबर माह में सरकार ऐसे खातों के लेन देन पर रोक लगाकर 50 फीसदी आयकर वसूलने की तैयारी में जुट गया है। केंद्र सरकार को भरोसा है कि 1 लाख करोड़ रुपया उसे जन धन खातों से टैक्स के रूप में मिल जाएगा। अभी तक इसमें 76 हजार करोड़ रुपया जमा हुआ है। सरकार को खबरें मिली हैं कि काले धन को बचाने के लिए जन धन खातों में 49000 हजार जमा कराया है। जन धन खातों के लिए सरकार 40 हजार की सीमा तय करने पर विचार कर रही है।
add-royal-copy

Share it
Top