भाजपा की कठपुतली बने कांग्रेस और सपा?

भाजपा की कठपुतली बने कांग्रेस और सपा?


बसपा सुप्रीमों मायावती ने भाजपा और सपा को निशाने पर लेते हुए यहां तक कह दिया कि ‘सपा के वर्चस्व की लड़ाई इतनी गहरी हो चुकी है कि कांग्रेस-सपा के गठबंधन के बावजूद उनकी सरकार नहीं बन सकती है। दोनों पार्टियों के गठबंधन करने की अंतिम मुहर भाजपा के कहने पर लगेगी। मेरा नूर बढ़ा हुआ है, लेकिन भाजपा के नेताओं और कार्यकर्ताओं का नूर उतर चुका है।’ अगर यह सच है तो फिर कांग्रेस और सपा का अस्तित्व भाजपा को तय करना है, क्योंकि ऐसा प्रतीत होता है कि भाजपा ही उन्हें या तो आगे बढ़ाती है या फिर उन्हें पीछे कर खुद सरकार पर काबिज हो जाती है! मायावती के ऐसे बयानों पर कौन भरोसा करेगा कहना मुश्किल है।

Share it
Top