भाई ने ही की थी राजू की हत्या....खांजापुर में रात को सोते समय दाव से काट डाली थी गर्दन

भाई ने ही की थी राजू की हत्या....खांजापुर में रात को सोते समय दाव से काट डाली थी गर्दन



मुजफ्फरनगर। भाई की हत्या में शामिल अभियुक्त तथा एक अन्य ईनामी बदमाश को पुलिस व क्राईम ब्रांच की टीम ने गिरफ्तार कर उसके कब्जे से तमंचा व कारतूस बरामद कर लिये है।
शहर कोतवाली में आयोजित प्रेसवार्ता के दौरान एएसपी मणिलाल पाटीदार ने पत्रकारों से बात करते हुए बताया कि गत दिनों शहर कोतवाली क्षेत्र के निकटवर्ती गांव खांजापुर निवासी राजू पुत्र स्व.यशपाल की कुछ अज्ञात लोगों ने हत्या कर दी थी। राजू की हत्या के मामले में मृतक के भाई मनोज पुत्र स्व. यशपाल ने पीनना निवासी संदीप पुत्र ईशम सिंह व सुमित पुत्र सतबीर के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज करवाया था। इस मामले के विवेचक शहर कोतवाल संजीव कुमार शर्मा ने इस मामले की छानबीन व भागदौड शुरू की। एसएसपी अनन्तदेव तिवारी के निर्देशों के चलते क्षेत्र में शान्ति व्यवस्था के मद्देनजर की गई गश्त के दौरान शहर कोतवाल संजीव कुमार शर्मा, सब इंस्पैक्टर चन्द्रसैन सैनी व सब इंस्पैक्टर लेखराज सिंह ने अपने भाई के हत्यारोपी एवं इस मामले के वादी मनोज को आलाकत्ल हत्या में प्रयुक्त दांव सहित गिरफ्तार कर लिया गया।

http://www.royalbulletin.com/देवबंद-में-माफियाओं-द्वा/

पुलिस ने पकडे गए अभियुक्त की निशानदेही पर मृतक राजू की खून से सनी कमीज बरामद की। कोतवाली पुलिस द्वारा की गई पूछताछ में पकडे गए अभियुक्त मनोज ने कबूल किया कि पारिवारिक कारणों के चलते उसने ही अपने छोटे भाई राजू की हत्या कर दी तथा एक साजिश के तहत गांव पीनना निवासी सुमित व उसके साथी संदीप आदि को नामजद करवा दिया। अभियुक्त मनोज ने पूछताछ के दौरान पुलिस को बताया कि उसके भाई राजू व सुमित के बीच अनबन चल रही थी, जिस कारण इन दोनों के बीच मुकदमेंबाजी भी चल रही थी, जिसका फायदा उठाते हुए उसने संदीप व सुमित को राजू हत्याकाण्ड में नामजद करा दिया। पुलिस सूत्रों का कहना है कि पकडा गया मनोज शातिर किस्म का व्यक्ति है, जिसने पुलिस को गुमराह करने का काम किया है। पुलिस ने पकडे गए मनोज के खिलाफ मुकदमा कायम कर उसे जेल भेजा दिया। पत्रकारवार्ता के दौरान शहर कोतवाल संजीव शर्मा भी मौजूद रहे।

Share it
Top