भरपूर गर्मी में पायें ठंडक और ताजगी

भरपूर गर्मी में पायें ठंडक और ताजगी

गर्मी का मौसम हमारे शरीर और त्वचा के लिए काफी कष्टदायक होता है। अपने शरीर को इस मौसम के दुष्प्रभावों से बचाए रखने के लिए हमें काफी ध्यान रखने की आवश्यकता होती है। आइए देखें, इस मौसम में हम क्या सावधानियां बरतें ताकि मौसम के प्रभाव से बचे रह सकें।
त्वचा:-गर्मी के मौसम का प्रभाव सर्वप्रथम हमारी त्वचा पर पड़ता है। उसे ही सीधे धूप और गर्मी को झेलना पड़ता है। सूर्य के त्वचा पर प्रभाव से शरीर में मुक्त रेडिकल्स की संख्या बढ़ जाती है जिसके कारण हमारी त्वचा चमक व कसाव खो देती है।
त्वचा का रंग काला पड़ जाता है और त्वचा पर झुर्रियां पड़ जाती हैं। कभी-कभी तो अधिक टैनिंग के कारण त्वचा कैंसर भी हो सकता है।
इससे बचाव के लिए त्वचा पर कोई विटामिन ‘सी’ और ‘ई’ युक्त क्रीम लगायें ताकि मुक्त रेडिकल्स से बचाव हो सके। इन दिनों भोजन के साथ विटामिन ‘ई’, ‘सी’ ‘ए’ और सिलेनियम युक्त गोली लें तो इससे भी बचाव होगा।
गर्मियों में त्वचा अधिक तैलीय हो जाती है। पसीना, धूलकण और प्रदूषण मिलकर त्वचा के छिद्रों को बड़ा कर देते हैं। इससे बचाव के लिए रोज रात को अपनी त्वचा को रगड़कर साफ करें। सप्ताह में एक बार फेस मास्क का प्रयोग करें जिससे त्वचा गर्मी में भी ताजा बनी रह सके।
बाल जगत/जानकारी… चावल का सफरनामा
धूप में बाहर जाने से पहले और तैराकी के पश्चात त्वचा पर सनस्क्रीन लोशन का प्रयोग अवश्य करें ताकि त्वचा सूर्य की अल्ट्रा वॉयलट किरणों के दुष्प्रभाव से बच सकें। धूप में हैट का प्रयोग भी लाभदायक रहता है। यह आपके नाक, सिर, कान
और गर्दन को धूप के दुष्प्रभाव से बचाये रखेगा।
जल पीते रहें:- दिन में थोड़ी-थोड़ी देर के पश्चात जल पीते रहें क्योंकि जल की कमी से निर्जलीकरण हो सकता है जिसका हृदय पर दुष्प्रभाव पड़ता है। भोजन के साथ तो पानी पिएं ही, बाहर निकलते समय ठंडे पानी की बोतल अवश्य साथ ले लें।
दिन में कम से कम 10-12 गिलास पानी अवश्य पिएं। अधिक जलीय अंश वाले खाद्य पदार्थ जैसे तरबूज, खरबूजा, दही, लस्सी नारियल पानी व नींबू पानी का सेवन भी लाभदायक है।
हल्का खाएं:- गर्मी के महीनों में हरी सब्जियां नित्य खाने से आप अपने को कई बीमारियों से बचा सकते हैं। कई बार गर्मी के कारण भूख मारी जाती है, अत: दो तीन घंटे के बाद हल्का खाते रहें। इन दिनों अनाज, फल, सब्जियों, फलियां और मछली का सेवन उचित रहता है जबकि मैदा, चर्बी, शर्करा, काफी व मांस का सेवन हानिकारक हो सकता है। मसालेदार, भोजन व शराब से भी दूर रहें।
बाल कथा: कुछ भी असंभव नहीं
बचें इनसे:- गर्मी के दिनों में आमतौर पर सिरदर्द, थकान, शक्तिक्षीणता, मांसपेशियों की शिथिलता, वमन व चक्कर आने की शिकायतें हो जाती हैं। ऊपर दिए गए सुझाव अपना कर आप इन समस्याओं से दूर रह सकते हैं।
यदि गर्मी के कारण अत्यधिक कमजोरी का अनुभव हो तो मरीज को घर के अंदर या छाया में ले जायें और पीने को अधिक से अधिक पानी दें। यदि लू लग गई हो और स्थिति में सुधार न हो तो तुरंत डाक्टरी सहायता लें। डॉक्टरी सहायता मिलने तक मरीज पर पानी का छिड़काव भी लाभप्रद हो सकता है।
बाजार से कच्ची बर्फ के बने गोलों, बर्फ मिली शिकंजी या नींबू सोडे का सेवन हानिकारक हो सकता है। इन्हें घर पर ही बनाकर पिएं। घर की साफ सुथरी बर्फ पर रूह अफजा डालकर आप बर्फ के गोलों का आनंद ले सकते हैं।
– अशोक गुप्त

Share it
Top