ब्याज दर यथावत रखने से निवेशक निराश, सेंसेक्स 45 अंक टूटा

ब्याज दर यथावत रखने से निवेशक निराश, सेंसेक्स 45 अंक टूटा

मुंबई । रिजर्व बैंक (आरबीआई) के नीतिगत दरों में कटौती नहीं करने से निराश शेयर बाजार आज मौद्रिक नीति बयान जारी होते ही एकाएक गोता लगाने के बाद बचत खातों से निकासी सीमा समाप्त करने की घोषणा से काफी हद तक वापसी करने में कामयाब रहा। दिग्गज कंपनियों में बिकवाली से बीएसई का सेंसेक्स 45.24 अंक की गिरावट में रहा। हालाँकि, नकद निकासी सीमा समाप्त करने की घोषणा से बाजार को बल मिला और कुल मिलाकर इसका परिदृश्य सकारात्मक रहा। मझौली और छोटी कंपनियों के सूचकांक हरे निशान में बंद हुये। बीएसई में आधे से ज्यादा कंपनियों के शेयर बढ़त में बंद हुये। निफ्टी 0.75 अंक की मामूली बढ़त के साथ 8,769.05 अंक पर हरे निशान में बंद होने में कामयाब रहा। नकद निकासी की सीमा समाप्त करने की घोषणा से सबसे ज्यादा फायदा टिकाऊ उपभोक्ता उत्पाद समूह को हुआ। बीएसई में इसका सूचकांक 2.83 प्रतिशत चढ़ गया। बीएसई के कुल 20 में से 15 समूहों के सूचकांक में तेजी देखी गयी। निवेशकों की उम्मीद थी आरबीआई मुख्य नीतिगत दरों में 0.25 प्रतिशत तक कटौती कर सकता है। पहले से ही 40-50 अंक की गिरावट में चल रहा सेंसेक्स दोपहर ढाई बजे बयान जारी होते ही सेंसेक्स करीब 200 अंक की गिरावट में चला गया। हालाँकि, जब 20 फरवरी से बचत खातों से साप्ताहिक निकासी की सीमा बढ़ाकर 50 हजार रुपये तथा 13 मार्च से इसे पूरी तरह समाप्त करने की घोषणा की गयी तो बाजार में एक बार फिर सुधार देखा गया। कुछ देर के लिए यह हरे निशान में भी गया। लेकिन, 28,391.64 अंक के दिवस के उच्चतम स्तर को छूने के बाद अंतत: गत दिवस की तुलना में 0.16 प्रतिशत यानी 45.24 अंक नीचे 28,289.92 अंक पर बंद हुआ। इससे पहले सेंसेक्स 50.92 अंक की बढ़त के साथ 28,386.08 अंक पर खुला था, लेकिन कुछ देर बाद ही लाल निशान में चला गया।

Share it
Top