बदल रहा है सोचने का नजरिया….बेटी की कमाई हरगिज नहीं है पाप ….!

बदल रहा है सोचने का नजरिया….बेटी की कमाई हरगिज नहीं है पाप ….!

6पुरानी सभी मान्यताएं धीरे-धीरे टूटती जा रही हैं। इन्हीं मान्यताओं में से एक है कि बेटी की कमाई माता पिता के लिए हराम है जब कि बेटे की कमाई वे साधिकार ले सकते हैं। आज बेटियां भी पढ़ लिख कर काबिल बन रहीं हैं। माता पिता उनकी परवरिश भी बेटों की तरह ही करते हैं। कई बार गरीबी के कारण उन्हें बेटियों की परवरिश और पढ़ाई के लिए न जाने कितने त्याग करने पड़ते हैं। ऐसे में बड़े होकर अगर वे मां बाप के लिए कुछ करना चाहती हैं तो यह उनका फर्ज है। उन्हें उनका फर्ज निभाने दें। उनसे कुछ लेना गलत कैसे माना जा सकता है बल्कि उन्हें कुछ न करने देना गलत होगा। माता-पिता कई बार अपने आत्मसम्मान की रक्षा करते हुए बेटी से आर्थिक मदद लेने से कतराते हैं लेकिन यह सरासर उनकी भूल है। उनका भी बेटी की कमाई पर पूरा हक है। ऐसा करना अधर्म नहीं है। बेटी के घर का पानी तक न पीना जैसे रिवाज कारण विशेष से बने थे लेकिन समय के साथ सभी को बदलते हुए तालमेल बिठा लेना चाहिए। जो बेटी मां बाप के जरूरत के समय उनके काम न आ सके, वो अपनी ही नजरों में गिर जाऐगी।
नैतिक पतन उसे कभी सर उठाकर चलने लायक नहीं रहने देगा। बेटियों का पैसा कब इस्तेमाल करें, कब नहीं, ये भिन्न-भिन्न स्थितियों पर निर्भर करता है। अगर ससुराल वाले गरीब हैं, उन पर बहुत सी जिम्मेदारियां हैं और लड़की के पीहर वाले आर्थिक रूप से सक्षम हैं तो जाहिर है लड़की का फर्ज पहले अपने ससुराल के दायित्वों को निभाना और उनकी हर तरह से मदद करना है। लड़की के स्वयं के ऊपर बहुत कुछ निर्भर होता है। अपने को शोषित वो किसी हाल में न होने दे। जरूरत और लालच में भेद कर सके, यह जरूरी है। कोई विरले ही मां बाप होते हैं जो बेटी का शोषण करने जैसी घटिया मानसिकता रखते हों वर्ना सभी माता पिता उसकी खुशहाली चाहते हैं। लड़कियां जरूरतमंद माता-पिता की आर्थिक सहायता करें भी तो ऐसे करें ताकि उनकी खुद्दारी को ठेस नहीं पहुंचे। कोई एहसान न समझकर अपना फर्ज समझकर करें। यह कभी न भूलें कि उन्होंने उसके लिए क्या किया है। अंत में जो अहम बात है वो है आपसी लगाव और प्यार। सारी बातें एक तरफ और ये जज्बा एक तरफ। जब आपसी प्यार होगा तो गलत कुछ नहीं होगा।
सच्चा प्यार हमेशा सही राह दिखाता है। सुसंस्कार जीने का सही ढंग सिखाते हैं। आत्मसम्मान रखना बहुत अच्छी बात है लेकिन साथ ही लड़की के मां बाप में अब इतनी जागरूकता भी आ जानी चाहिए कि किसी भी मान्यता या रिवाज को वर्तमान की कसौटी पर तौलकर आगे बढ़ें। जरूरत होने पर बेटी की कमाई से परहेज न करें। अपनी ही जायी संतान को पराया न मानें। कोई भी अच्छी बेटी ऐसा परायापन नहीं चाहेगी।
-उषा जैन शीरीं

Share it
Top